चौकी तुलसी निकेतन प्रभारी प्रवीण कुमार ने जिला बदर अभियुक्त को किया गिरफ्तार
संवाददाता गाजियाबाद:- थाना टीला मोड़ क्षेत्र के अंतर्गत आने वाली चौकि तुलसी निकेतन पुलिस ने एक जिला बदर अभियुक्त को गिरफ्तार किया है एस एस पी पवन कुमार ने अपराधियों की धरपकड़ के लिए सख्त निर्देश दिए हुए हैं किसी भी अपराधी को बक्सा ना जाए एस एस पी के आदेश का पालन करते हुए अभियुक्त को गिरफ्तार किया ह…
Image
शालीमार गार्डन चौकी क्षेत्र 80 फुटा रोड राजस्थान मार्बल हाउस के बराबर मे ज्योति नामक महिला बेच रही है जहरीली शराब
डाटला एक्सप्रेस संवाददाता (पंकज तोमर)  गाजियाबाद:- साहिबाबाद थाना क्षेत्र अंतर्गत आने वाली चौकी शालीमार गार्डन क्षेत्र 80 फुटा रोड राजस्थान मार्बल हाउस के बराबर में पुलिस की मिलीभगत से खुलेआम बेची जा रही है जहरीली शराब जहां उत्तर प्रदेश में पिछले कुछ वर्षों में जहरीली शराब पीने से सैकड़ों लोगों की …
Image
कुटी बिजली घर पर तैनात जेई आशीष रतन के हौसले बुलंद, कनेक्शन देने की एवज में दस हजार रुपए की डिमांड
डाटला एक्सप्रेस संवाददाता  गाजियाबाद:-आए दिन बिजली विभाग में व्याप्त भ्रष्टाचार के किस्से कहानियां तो आप सुनते ही रहते हैं परंतु उनमें लोनी क्षेत्र बिजली विभाग के बिजली घर भ्रष्टाचार के मामले में अव्वल नंबर पर आते हैं। लोनी क्षेत्र के बिजली घरों में तैनात अवर अभियंताओं सहित लाइनमैन हर प्रकार से च…
Image
भारी लागत से तैयार हो रहे नाली व रास्ता बनाने के कार्य में किया जा रहा है घटिया सामग्री का प्रयोग
डाटला एक्सप्रेस संवाददाता  गाज़ियाबाद नगर निगम द्वारा एक करोड़ तेरा लाख रुपए की लागत से वार्ड नंबर 20 मे भोपुरा लाल गेट से लेकर शिव मंदिर तक आरसीसी की नाली व रास्ता बनाने का ठेका ठेकेदार बबली नामक व्यक्ति को दिया गया है जिसमें ठेकेदार बबली नगर निगम के कुछ अधिकारियों की मिलीभगत से आरसीसी की नाली बना…
Image
कविता:-शर्माता यौवन
डाटला एक्सप्रेस की प्रस्तुति  इतराता बलखाता यौवन सबको केवल भाता यौवन उम्मीदों से भरी रूह को जब तक है बहलाता यौवन मर्यादा की बात न सुनता तनिक नहीं शर्माता यौवन जो कुछ दिल चाहे करता है जब दिल में ज़िद लाता यौवन अनुभव में डूबी आँखों को  अक्सर आँख दिखाता यौवन मद में भरकर आदर्शों…
Image
कविता- सर्द रातों में ठिठुरता
डाटला एक्सप्रेस की प्रस्तुति    दर्द पलकों में छुपा लेते हैं आग सीने में दबा लेते हैं जिस्म ढकने को भले हों चिथड़े आबरू अपनी बचा लेते हैं भूख मिटती है कभी फाँकों से प्यास अश्कों से बुझा लेते हैं नहीं ख़ैरात से कोई रिश्ता सिर्फ़ मालिक की दुआ लेते है सर्द रातों में ठिठुरता तन जब  रात को दिन -सा बिता लेत…
Image