कविता-फासला नजदीकियों का

डाटला एक्सप्रेस की प्रस्तुति 

फासला नजदीकियों का मूल है

ज्यों गुलाबों का सहारा शूल है

इक जरा सी बात पर नाराजगी

मान लो यह नासमझ सी भूल है

मेल बिन बढ़ता रहेगा फासला 

बात है इक दम खरी माकूल है

भूल कर के भी न मानें भूल तो

जान लो जी वक्त कुछ प्रतिकूल है

रूह कहती खूब सब भूल जा

मन मगर देता निरन्तर तूल है

मन सदा चंचल रहा अंचल बहुत

मोतियों को भी बताता धूल है

मान दिल की बात कर भी ले सुलह

प्यार तो हरपल महकता फूल है।।।।



ममता शर्मा 'अंचल', अलवर (राजस्थान)

लिखने की तिथि:-11.4.2023

Comments
Popular posts
दादर (अलवर) की बच्ची किरण कौर की पेंटिंग जापान की सबसे उत्कृष्ट पत्रिका "हिंदी की गूंज" का कवर पृष्ठ बनी।
Image
भक्त कवि श्रद्धेय रमेश उपाध्याय बाँसुरी की स्मृति में शानदार कवि सम्मेलन का किया गया आयोजन।
Image
जेई निरंजन मौर्या व लाइनमैन राजीव के इशारे पर कराई जा रही थी विद्युत चोरी, सतर्कता विभाग ने मारा छापा
Image
जीडीए प्रवर्तन जोन एक (01) अभियंताओं के संरक्षण में वर्षों से संचालित हैं कई अवैध मार्केट्स।
Image
मां वैष्णो भारत गैस एजेंसी के मालिक की मिलीभगत से हो रही है गैस धांधली
Image