कविता:-तेरे आने का अब इंतज़ार भी नहीं।
डाटला एक्सप्रेस की प्रस्तुति 

तेरे जाने से दिल बेकरार भी नहीं।
तेरे आने का अब इंतज़ार भी नहीं।
तुझे पाने की ख्वाईश क्या होगी अब,
तेरी चाहत का तलबगार भी नहीं
गुजरते हैं हम उन रास्तों से कभी,
आती अब उनमें पुकार भी नहीं।  
तेरा ग़म ये मुझे डराएगा भी क्या,
मेरे डर का याँ कोई दयार भी नहीं।
न लिखावट है कोई ना इबारत ही,
तेरे ख़त का तो अब इंतज़ार भी नहीं।
"चन्द्रेश' कैसे दिल टूटेगा ये,
अब तक इसमें तो दरार भी नहीं।


















लेखिका:-चन्द्रकांता सिवाल 'चन्द्रेश', करोल बाग (दिल्ली)
Comments
Popular posts
दादर (अलवर) की बच्ची किरण कौर की पेंटिंग जापान की सबसे उत्कृष्ट पत्रिका "हिंदी की गूंज" का कवर पृष्ठ बनी।
Image
भक्त कवि श्रद्धेय रमेश उपाध्याय बाँसुरी की स्मृति में शानदार कवि सम्मेलन का किया गया आयोजन।
Image
जेई निरंजन मौर्या व लाइनमैन राजीव के इशारे पर कराई जा रही थी विद्युत चोरी, सतर्कता विभाग ने मारा छापा
Image
जीडीए प्रवर्तन जोन एक (01) अभियंताओं के संरक्षण में वर्षों से संचालित हैं कई अवैध मार्केट्स।
Image
मां वैष्णो भारत गैस एजेंसी के मालिक की मिलीभगत से हो रही है गैस धांधली
Image