बेटी नही है तुम बन पाओगी क्या

बेटे की शादी के लिए

लड़की देखने गया

पहले दूर से देखा

फिर करीब आया

वो अपने मम्मी पापा

भाई बहन के साथ थी

नजरों से आंकलन किया

फिर मस्तिष्क पर जोर डाला

ये घिरी है अपनों के बीच

मेरे घर में रच बस पाएगी क्या

ये तो अपने पापा की परी है

मां की लाडली भाई की दुलारी है

बहन की सहेली है 

मेरे घर आ पाएगी क्या

आ भी गयी तो मेरे घर को महकायेगी क्या

सोन चिरैया बन मेरे आंगन में चहकेगी क्या

लड़की के पिता ने

असमंजस में देख पूछ लिया

आपने कुछ कहा नहीं

मैनें एक एक कर सभी को देखा

फिर लड़की से पूछा

मेरी बेटी नहीं है

तुम बन पाओगी क्या ?











राज कुमार सिंह, दीवान बाजार (काली मंदिर के पास) गोरखपुर उ.प्र

Comments
Popular posts
काव्य कॉर्नर फाउंडेशन द्वारा गणतंत्र दिवस एवं वसंत पंचमी मनाई गई धूमधाम से।
Image
वीडियो बना रहे लड़के का पहले तो छीना फोन, फिर दी झूठे मुक़दमे मे फ़साने की धमकी, अगर काम सही तो डर किस बात का।
Image
नही हुई कार्यवाही तो आरटीओ कार्यालय का घेराव कर करेंगे तालाबंदी पं. सचिन शर्मा (प्रदेश अध्यक्ष)
Image
ग़ज़ल कुंभ 2023 संपन्न
Image
जीडीए प्रवर्तन जोन 06 के वैशाली मे संचालित अनेकों अवैध निर्मित बैंक्वेट हॉल बने अधिकारियों के लिये चुनौती। बैंक्वेट हॉल संचालकों से अभियंताओं की मिलीभगत कार्यवाही मे बनती है बाधा।
Image