मशहूर कवयित्री ममता शर्मा "अंचल" द्वारा रचित कविता ""कुछ दिन पहले"












ममता शर्मा "अंचल"अलवर (राजस्थान) 

उससे पूछा कुछ दिन पहले

बनकर मीत साथ में रह ले

रिश्ते को मजबूती देकर

फिर जो जी में आए कहले

गम या खुशी मिले जो भी जब

बिन पछताए मिलकर सह ले

फिर भी दर्द न सह पाए तो

छुप छुप कर आँखों से बहले

हर आँसू का क्या कारण है

दिल में उतर अश्क की तह ले

दुख है अगर पास तेरे तो

मेरा सुख तेरा है यह ले

भेद न कर अंचल ले ले प्रण

जिसकी जो चाहत है वह ले।।।

Comments
Popular posts
दादर (अलवर) की बच्ची किरण कौर की पेंटिंग जापान की सबसे उत्कृष्ट पत्रिका "हिंदी की गूंज" का कवर पृष्ठ बनी।
Image
भक्त कवि श्रद्धेय रमेश उपाध्याय बाँसुरी की स्मृति में शानदार कवि सम्मेलन का किया गया आयोजन।
Image
जेई निरंजन मौर्या व लाइनमैन राजीव के इशारे पर कराई जा रही थी विद्युत चोरी, सतर्कता विभाग ने मारा छापा
Image
जीडीए प्रवर्तन जोन एक (01) अभियंताओं के संरक्षण में वर्षों से संचालित हैं कई अवैध मार्केट्स।
Image
मां वैष्णो भारत गैस एजेंसी के मालिक की मिलीभगत से हो रही है गैस धांधली
Image