विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर भव्य काव्य संध्या का आयोजन।










(तीस से अधिक कवियों ने पर्यावरण संरक्षण एवं निदान पर कविताएं पढ़ समाज को दिया संदेश)

डाटला एक्सप्रेस संवाददाता 

दिल्ली:-प्रसिद्ध ग़ज़लकार पर्यावरणविद् और बेहतरीन छायाकार श्री जगदीश मीणा के संयोजन में विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर भव्य काव्य संध्या का आयोजन उनके निजी निवास सेक्टर 15 वसुंधरा ग़ाज़ियाबाद पर किया गया। 

काव्य संध्या मे केवल गाज़ियाबाद और दिल्ली के आसपास के ही नही, वरन हरियाणा, राजस्थान, मध्य प्रदेश एवं उत्तर प्रदेश के तमाम साहित्यकारों, ग़ज़लकारों एवं कवियों ने भाग लिया।

कार्यक्रम की अध्यक्षता उदयपुर राजस्थान से आए उस्ताद शायर दीपक कुमार नगाइच 'रोशन' ने की। मुख्य अतिथि के रूप में श्रीमती वंदना कुँवर रायज़ादा उपस्थित रहीं। विशिष्ट अतिथि के रूप में देश के सबसे स्वच्छ शहर इन्दौर से शायर विनोद सिंह नामदेव 'शजर" मौजूद रहे। कार्यक्रम का बेहतरीन संचालन शायरा ममता लड़ीवाल ग़ाज़ियाबाद द्वारा किया गया।

कार्यक्रम की शुरुआत कवयित्री ऊषा श्रीवास्तव के मधुर कंठ से माँ शारदा की वंदना से हुई। सांयकाल 4 बजे से प्रारंभ हुआ यह कार्यक्रम रात 10 बजे तक अनवरत चलता रहा। तालियों की गड़गड़ाहट के बीच तमाम वरिष्ठ और नवोदित कवियों एवं ग़ज़लकारों ने स्तरीय साहित्यिक रचनाओं का पाठ किया, जिसमें अधिकतर कवियों ने पर्यावरण संरक्षण और निदान कर कविताएं पढ़ी।

पर्यावरण दिवस के इस ख़ास अवसर पर प्रयागराज के अशोक श्रीवास्तव, दिल्ली एनसीआर से के शंकर सौम्य, अनिल मीत, विनय विक्रम सिंह, मुस्कान शर्मा, वसुधा कनुप्रिया, राजीव सिंहल, गार्गी कौशिक, गोपाल गुप्ता, मनोज कामदेव, कुमार राघव, सुनील शर्मा (गुरुग्राम), ललित अत्रि , निर्देश शर्मा पाबला, संजय कुमार गिरि, ममता लड़ीवाल, सीमा सागर शर्मा, निखिल श्रीवास्तव, उषा श्रीवास्तव 'उषाराज', जगत सिंह माली, डॉ.पन्नालाल, मनु लक्ष्मी मिश्रा, संजय जैन, रीता अदा, जगदीश मीणा, वंदना कुँअर रायज़ादा, इंदौर के विनोद सिंह नामदेव 'शजर', व उदयपुर के दीपक नगाइच रोशन सहित 30 रचनाकारों ने काव्य पाठ किया। 

कार्यक्रम के अंत में आयोजक एवं संयोजक जगदीश मीणा ने सभी मेहमान कवियों का आभार व्यक्त किया, तदुपरांत सामूहिक भोजन के साथ कार्यक्रम का समापन हुआ।

Comments