कविता- सर्द रातों में ठिठुरता

डाटला एक्सप्रेस की प्रस्तुति 

 

दर्द पलकों में छुपा लेते हैं

आग सीने में दबा लेते हैं

जिस्म ढकने को भले हों चिथड़े

आबरू अपनी बचा लेते हैं

भूख मिटती है कभी फाँकों से

प्यास अश्कों से बुझा लेते हैं

नहीं ख़ैरात से कोई रिश्ता

सिर्फ़ मालिक की दुआ लेते है

सर्द रातों में ठिठुरता तन जब 

रात को दिन -सा बिता लेते हैं

कर्मवाले ये अनूठे इंसाँ

पत्थरों को भी जगा लेते हैं

कोई तो बात है "अंचल" उनमें

खूब जीने का मज़ा लेते हैं।।

ममता शर्मा "अंचल"

अलवर (राजस्थान)

Comments
Popular posts
दादर (अलवर) की बच्ची किरण कौर की पेंटिंग जापान की सबसे उत्कृष्ट पत्रिका "हिंदी की गूंज" का कवर पृष्ठ बनी।
Image
भक्त कवि श्रद्धेय रमेश उपाध्याय बाँसुरी की स्मृति में शानदार कवि सम्मेलन का किया गया आयोजन।
Image
जेई निरंजन मौर्या व लाइनमैन राजीव के इशारे पर कराई जा रही थी विद्युत चोरी, सतर्कता विभाग ने मारा छापा
Image
जीडीए प्रवर्तन जोन एक (01) अभियंताओं के संरक्षण में वर्षों से संचालित हैं कई अवैध मार्केट्स।
Image
मां वैष्णो भारत गैस एजेंसी के मालिक की मिलीभगत से हो रही है गैस धांधली
Image