कविता:-जो मन कहता
डाटला एक्सप्रेस की प्रस्तुति 


बंदिश   में    जीना,    मरना  है
फिर  क्यों  बंदिश  से  डरना है

सोच  लिया  है  इसीलिए  अब
जो  मन  कहता  वह  करना है

दुख की गहरी  झील हुआ दिल
अधिक न अब इसको भरना है

अश्क  बनो हर दुख से कह दें
आँखों  से   जीभर   झरना  है

अपना अपना  हित है सबका
दोष  किसी  पर क्यों धरना है

दुनिया  से  उम्मीद  न  कीजे
अपना  संकट  खुद   हरना है

मोह न पाल किसी से "अंचल"
इक  दिन इस भव से  तरना है।।।


















ममता शर्मा "अंचल"
Comments
Popular posts
दादर (अलवर) की बच्ची किरण कौर की पेंटिंग जापान की सबसे उत्कृष्ट पत्रिका "हिंदी की गूंज" का कवर पृष्ठ बनी।
Image
भक्त कवि श्रद्धेय रमेश उपाध्याय बाँसुरी की स्मृति में शानदार कवि सम्मेलन का किया गया आयोजन।
Image
जेई निरंजन मौर्या व लाइनमैन राजीव के इशारे पर कराई जा रही थी विद्युत चोरी, सतर्कता विभाग ने मारा छापा
Image
जीडीए प्रवर्तन जोन एक (01) अभियंताओं के संरक्षण में वर्षों से संचालित हैं कई अवैध मार्केट्स।
Image
मां वैष्णो भारत गैस एजेंसी के मालिक की मिलीभगत से हो रही है गैस धांधली
Image