तस्वीरों मे हीरो और ग्राउंड पर जीरो नज़र आते हैं खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन के अधिकारी



डाटला एक्सप्रेस संवाददाता 

गाज़ियाबाद:-जनपद में संचालित हज़ारो मिठाई की दुकानों व खाद्य सामग्रियों का उत्पादन करने वाली फैक्ट्रियों में से कभी कभार साल में किसी विशेष समय (होली, ईद रक्षाबंधन, दिपावली आदि त्योहारों पर) पर अपनी कुंभकर्णी नींद से जाग किसी चुनिंदा खाद्य बिक्री करने वाली दुकान आदि का सैंपल भर खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन "गाज़ियाबाद" के अधिकारी अपनी पीठ को खुद ही ऐसे थपथपाते हैं मानो जैसे उन्होंने पूरे जनपद में संचालित सभी खाद्य संस्थानों को खाद्य सुरक्षा अधिनियमों के अधीन ला रखा हो। आज आप यदि पूरे जनपद की किसी भी खाद्य उत्पाद बनाने या बेचने वाली दुकान या फैक्ट्री में से किसी भी प्रकार की खाद्य सामाग्री का सैंपल स्वयं किसी सम्मानित लैब में भेज जांच करवाते हैं तो आपको मालूम होगा कि इस विभाग और इनके अधीन उन खाद्य सामग्रियों को बेचने वाली दुकानों के शुद्धता के दावे उतने ही सच्चे हैं जितना एक सफेद हाथी का अस्तित्व में होना। 

खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन के अधिकारियों की इसी उदासीनता के चलते खाद्य सामग्रियों की बिक्री करने वाले दुकानदार इनसे अपनी सांठगांठ कर काफी लंबे समय से अपने ग्राहकों को बड़ी ही खराब गुणवत्ता की खाद्य सामाग्री परोसते आये हैं। जो आगे चलकर लोगों के स्वास्थ्य पर भारी पड़ता है। 

ऐसी ही मिठाई की लगभग 10 से ज्यादा दुकानें गगन विहार भोपुरा मेन मार्केट 25 फुटा रोड साहिबाबाद गाज़ियाबाद में भी संचालित हैं। आपको बता दें कि इन सभी दुकानों में इतनी खराब गुणवत्ता की मिठाइयां तैयार की जाती हैं जिसका सेवन यदि कोई व्यक्ति कुछ दिन कर ले तो उसका गंभीर रूप से बीमार पड़ना निश्चित है। वहीं सूत्रों द्वारा मिली जानकारी के अनुसार यदि इन दुकानों के विरुद्ध कोई शिकायत करता है तो क्षेत्रीय खाद्य सुरक्षा अधिकारी के मौके पर पहुंचने से पहले ही उसका कोई खास आदमी जो विभाग में ही कार्यरत होता है सभी दुकानदारों को फोन कर अधिकारी के आने की जानकारी दे देता है जिससे समय रहते ही सभी अपनी दुकानों का शटर गिरा वहा से चले जाते हैं जिसे अनगिनत बार देखा गया है। इसी अंदरुनी सांठगांठ के चलते आज दिन तक इन दुकानों व इनके संचालकों के विरुद्ध अब तक कोई भी उचित विभागीय/कानूनी कार्यवाही नहीं हो पाई है। 

ऐसे ही हर्ष विहार सेकंड, गली नंबर 1 के सामने वाली गली मे सासी के मकान के सामने वीरेंद्र नामक व्यक्ति पाऊडर द्वारा बनी छैना और रसगुल्ले बनाने का काम धड़ल्ले से कर रहा है, एक क्षेत्रीय व्यक्ति ने नाम न बताने की शर्त पर बताया कि इस फैक्ट्री के संचालक का कहना है कि उसने क्षेत्रीय खाद्य सुरक्षा अधिकारी के ड्राइवर के माध्यम से दीपावली का अपना नजराना पहुंचा दिया है इसीलिए अब उसे किसी का भी भय नहीं है कोई कुछ भी करता रहे वह अपना काम रोकने वाला नही है। 

एक तो पूरा देश वैसे ही कोरोना, डेंगू, मलेरिया आदि बीमारियों को बहुत बूरी तरह झेल रहा है वही दूसरी ओर कुछ ऐसे भ्रष्‍ट खाद्य सुरक्षा अधिकारियों/कर्मचारियों के चलते लोगों का स्वास्थ्य जो पहले ही काफ़ी खतरे में हैं और गर्त में जा रहा है। यहां साफ तौर पर यह बात समझनी आवश्यक है कि यह सब तो सुधरने से रहे चाहे हम और आप कुछ भी कर लें, ऐसे में हम लोगों को ही ऐसी घटिया खाद्य सामग्रियों को बेचने वाली दुकानों का बायकाॅट करना होगा तथा ऐसे कुछ भ्रष्‍ट सरकारी अधिकारियों की शिकायतें निरंतर शाशन को भेजनी होगी जिससे इनके विरुद्ध सख्त से सख्त कार्यवाही हो और अन्यों को उनसे सबक मिले। 

उक्त मामले की शिकायत जनपद व शाशन स्तर पर की जा रही है। ताकि ऐसे जहरीले खाद्य सामग्रियों को परोसने वाले व उनका संरक्षण करने वाले अधिकारियों/कर्मचारियों के विरुद्ध सख्त से सख्त कार्यवाही हो सके।

Comments