कविता.....मन को शांति तब मिले,जब हम होंगे शांत।

प्रस्तुति डाटला एक्सप्रेस 


वाणी की लय भाव ही,   

मन से मन की डोर। 

कर्कश वाणी बोलकर, 

मत बनिए तुम ढोर।।

शब्द कटु नहीं बोल तू,

होती  मन  में  पीर।

अश्रु नैन जब भीगते, 

चुभे  हृदय  में तीर।।

बढ़िया बढि़या सब कहें,

भांति भांति की बात।

जिसका  जैसा  भाव है,

वैसी " है " सौगात।।

कर्कश वाणी बोलते,

करते  ओछी  बात।

ऐसे दुर्जन  से कभी, 

करे  न कोई बात।।

मन को शांति तब मिले,

जब हम  होंगे शांत। 

व्यथित मन से तो सदा,

रहता हृदय अशांत।।

रखे सदा ही हृदय में,

सद्भावों  के  चित्र।

साधक उसको जानिए,

अपना सच्चा मित्र।।


लेखिका चन्द्रकांता सिवाल "चंद्रेश" 

करोल बाग सतनगर (दिल्ली)

Comments
Popular posts
न्यायाधीश रेखा शर्मा की उपस्थिति में असंध बार एसोसिएशन का शपथ ग्रहण समारोह सम्पन्न:
Image
लाइनमैन उदयवीर को बिजली घर से हटाने को तैयार नहीं है अधिकारी 
Image
ग्रुप हाउसिंग सोसाइटी एमएसएस ब्लिस होम्स (MSS BLISS Homes) में अवैध निर्माण व एनजीटी नियमों का उल्लंघन
Image
मुख्य अभियंता मुकेश मित्तल एक्शन मे, भ्रष्‍ट लाइन मैन उदय प्रकाश को हटाने एवं अवर अभियंता के खिलाफ विभागीय कार्यवाही के दिये आदेश
Image
शालीमार गार्डन एक्सटेंशन 2( डेढ़ सौ फुटा रोड) को हॉटस्पॉट होने के कारण किया गया बंद 
Image