गीत "जीवन संगिनी"

प्रस्तुति डाटला एक्सप्रेस 

दिल में दमकती नीलम, 

पथ जीवन संगिनी है। 

अंतस में प्रेम धारा, 

तन रूप कुंदनी है। 

        मानकर अग्नि को साक्षी,

        जो ली थी सात फेरे। 

        मेरे संग संग चली है, 

        हाथों को थाम मेरे। 

हम स्वर में साज भरती, 

धड़कन की रागिनी है। 

दिल में दमकती नीलम,

 पथ जीवन संगिनी है। 

        खुशियों से खिलता आंगन,

        महकता मेरा घर है। 

        यह खुशक़िस्मती हमारी, 

        खूबसूरत हमसफर है। 

गीतों की मेरी सरगम, 

सुसंगीत वादिनी है। 

दिल में दमकती नीलम, 

पथ जीवन संगिनी है। 



गीतकार कुंदन उपाध्याय "जयहिंद"

पिपरा गौतम-बस्ती (उ०प्र)

Comments
Popular posts
काव्य कॉर्नर फाउंडेशन द्वारा गणतंत्र दिवस एवं वसंत पंचमी मनाई गई धूमधाम से।
Image
वीडियो बना रहे लड़के का पहले तो छीना फोन, फिर दी झूठे मुक़दमे मे फ़साने की धमकी, अगर काम सही तो डर किस बात का।
Image
नही हुई कार्यवाही तो आरटीओ कार्यालय का घेराव कर करेंगे तालाबंदी पं. सचिन शर्मा (प्रदेश अध्यक्ष)
Image
ग़ज़ल कुंभ 2023 संपन्न
Image
जीडीए प्रवर्तन जोन 06 के वैशाली मे संचालित अनेकों अवैध निर्मित बैंक्वेट हॉल बने अधिकारियों के लिये चुनौती। बैंक्वेट हॉल संचालकों से अभियंताओं की मिलीभगत कार्यवाही मे बनती है बाधा।
Image