अलवर "राजस्थान" की मशहूर कवियित्री ममता शर्मा "अंचल" द्वारा रचित रचना "आप ख्वाब हो जाओ"

प्रस्तुति डाटला एक्सप्रेस 

आप दिल की किताब हो जाओ

जिंदगी का हिसाब हो जाओ

    आपको पढ़ सकूँ सलीके से

    दो घड़ी माहताब हो जाओ

मीत मैं प्यार का सवाल बनूँ

आप झट से जवाब हो जाओ

    दर्द का दौर जब कभी आए

    आँख मैं आप आब हो जाओ

जागते में अगर न हो मिलना

नींद मैं आप ख्वाब हो जाओ

    रूह पाकर महक जरा खुश हो

    आप खिलता गुलाब हो जाओ

हार भी जीत सी लगे मुझको

आप ऐसा ख़िताब हो जाओ

    सिर्फ आँखों मे लाज हो "अंचल"

    आप बस वो हिज़ाब हो जाओ।।



      ममता शर्मा "अंचल" 

      अलवर (राजस्थान)

Comments
Popular posts
पर्पल पेन समूह द्वारा 'अनहद' काव्य गोष्ठी एवं पुस्तक लोकार्पण का भव्य आयोजन
Image
भ्रष्‍ट लाइनमैन उदय प्रकाश को एक बार फिर बचाने मे कामयाब दिख रहे हैं जांच अधिकारी।
Image
चन्द्र फ़िल्म प्रोडक्शन की दूसरी फ़िल्म बावळती के पोस्टर का विमोचन तोदी गार्डन में अध्यक्ष पवन महेश्वरी भजपा, सुल्तान सिंह राठौड़, पवन तोदी ने किया।
Image
काशी भूमि सेवा संस्था के कार्यकारी निदेशक श्री भूपेंद्र राय ने रोशन कुमार राय द्वारा लिये गये साक्षात्कार मे कहा-समाज सेवा और जनहित ही है मेरा पहला लक्ष्य
Image
पिलखुवा में राष्ट्रीय ग़जलकार सम्मेलन सम्पन्न
Image