बात प्रेम की प्रेम से, दीजो तुम समझाय।

प्रस्तुति "डाटला एक्सप्रेस

रचा प्रभु ने राधिके, जग ये बड़ा विशाल।

संचालन भी विश्व का, सच में बड़ा कमाल।। 

सोच रही अब राधिके, बैठ कदम की छांव।

तनिक पास ही रह गया, गिरधर जी का गांव।।

व्याकुल भी मन हो रहा, तरसे दरस कुं नैन।

पग - पग कोसों नापती, हो राधे बैचैन।।

प्रेम और विश्वास की, राधे मोहन प्रीत।  

प्रेम बिना फीके सभी, सुख साधन अरु गीत।।

बात प्रेम की प्रेम से, दीजो तुम समझाय। 

प्रेम समझ में आय तब, प्रियतम मनको भाय।।

जब-जब राधे को हुआ, मोहन का दीदार।

तीरथ" सारे हो गये, बरसे नैनन प्यार।।

राधे मोहन प्रेम का, नहीं जगत में मोल।

फिर चाहे "चंद्रेश" जी, ले ओ तखड़ी तोल।। 



स्वरचित मौलिक

लेखिका चन्द्रकांता सिवाल "चंद्रेश" 

करौल बाग (दिल्ली)

Comments
Popular posts
जीडीए के नए उपाध्यक्ष क्या लगा पाएंगे प्रवर्तन जोन 06 के इंदिरापुरम क्षेत्र में हो रहे अवैध निर्माणों पर अंकुश।
Image
जीडीए प्रवर्तन जोन एक (01) अभियंताओं के संरक्षण में वर्षों से संचालित हैं कई अवैध मार्केट्स।
Image
भारतीय किसान यूनियन "अंबावता" द्वारा ओला वृष्टि से हुए किसानों के नुकसान पर मुआवजा देने के लिए राष्ट्रपति के नाम दिया ज्ञापन।
Image
गाज़ियाबाद विकास प्राधिकरण के उद्यान अनुभाग अंतर्गत आने वाले सिटी फॉरेस्ट के वाहन पार्किंग स्थल पर तैनात कर्मी जीडीए द्वारा निर्धारित वाहन पार्किंग मूल्य हेतु टिकट पर अंकित मूल्य से अधिक ले रहे हैं पैसे।
Image
गाज़ियाबाद के लोनी में कोरोना के बढ़ते मामलों से पूरा क्षेत्र दहशत में