बात प्रेम की प्रेम से, दीजो तुम समझाय।

प्रस्तुति "डाटला एक्सप्रेस

रचा प्रभु ने राधिके, जग ये बड़ा विशाल।

संचालन भी विश्व का, सच में बड़ा कमाल।। 

सोच रही अब राधिके, बैठ कदम की छांव।

तनिक पास ही रह गया, गिरधर जी का गांव।।

व्याकुल भी मन हो रहा, तरसे दरस कुं नैन।

पग - पग कोसों नापती, हो राधे बैचैन।।

प्रेम और विश्वास की, राधे मोहन प्रीत।  

प्रेम बिना फीके सभी, सुख साधन अरु गीत।।

बात प्रेम की प्रेम से, दीजो तुम समझाय। 

प्रेम समझ में आय तब, प्रियतम मनको भाय।।

जब-जब राधे को हुआ, मोहन का दीदार।

तीरथ" सारे हो गये, बरसे नैनन प्यार।।

राधे मोहन प्रेम का, नहीं जगत में मोल।

फिर चाहे "चंद्रेश" जी, ले ओ तखड़ी तोल।। 



स्वरचित मौलिक

लेखिका चन्द्रकांता सिवाल "चंद्रेश" 

करौल बाग (दिल्ली)

Comments
Popular posts
पर्पल पेन समूह द्वारा 'अनहद' काव्य गोष्ठी एवं पुस्तक लोकार्पण का भव्य आयोजन
Image
भ्रष्‍ट लाइनमैन उदय प्रकाश को एक बार फिर बचाने मे कामयाब दिख रहे हैं जांच अधिकारी।
Image
चन्द्र फ़िल्म प्रोडक्शन की दूसरी फ़िल्म बावळती के पोस्टर का विमोचन तोदी गार्डन में अध्यक्ष पवन महेश्वरी भजपा, सुल्तान सिंह राठौड़, पवन तोदी ने किया।
Image
काशी भूमि सेवा संस्था के कार्यकारी निदेशक श्री भूपेंद्र राय ने रोशन कुमार राय द्वारा लिये गये साक्षात्कार मे कहा-समाज सेवा और जनहित ही है मेरा पहला लक्ष्य
Image
पिलखुवा में राष्ट्रीय ग़जलकार सम्मेलन सम्पन्न
Image