मशहूर रचनाकार श्री सुनील पांडेय "जौनपुर" द्वारा रचित रचना "पागल"

प्रस्तुति "डाटला एक्सप्रेस" 

तैर रहे हैं तेरी आंख में काजल , पागल !

आंसू उमड़ रहे क्यों जैसे बादल ? पागल !

धरा तीक्ष्ण, उद्विग्न गगन, भैरवी पवन ;

आहत है सुकुमार-गात मूर्छित प्रसून-मन ।

खोल हृदय पट,बंद न कर,दुख-सांकल , पागल !

आंसू उमड़ रहे क्यों जैसे बादल ? पागल !

ज्योतिर्मय हो, दीपशिखा, तुम शांत चेतना ;

व्यापक हो ब्रह्मांड सदृश क्या तुम्हें मूर्छना ?

किस तम का तुम ओढ़े बैठी आंचल , पागल !

आंसू उमड़ रहे क्यों जैसे बादल ? पागल !

यज्ञ पश्च की धूम्र अग्नि हो मधुर आचमन ,

सुरभित तुझसे सारा जग, आलोकित कन-कन ।

छनक रही है चतुर्दिशा त्वम छागल , पागल !

आंसू उमड़ रहे क्यों जैसे बादल ? पागल !

आत्ममुग्ध हो, कर्ता का अधिकार बोध है ;

जीव और परमात्म मध्य का बस विरोध है ।

स्व-विस्मृत हो ऐसे जैसे पागल , पागल !

आंसू उमड़ रहे क्यों जैसे बादल ? पागल !!



सुनील पांडेय / जौनपुर

8115405665

Comments
Popular posts
पर्पल पेन समूह द्वारा 'अनहद' काव्य गोष्ठी एवं पुस्तक लोकार्पण का भव्य आयोजन
Image
भ्रष्‍ट लाइनमैन उदय प्रकाश को एक बार फिर बचाने मे कामयाब दिख रहे हैं जांच अधिकारी।
Image
चन्द्र फ़िल्म प्रोडक्शन की दूसरी फ़िल्म बावळती के पोस्टर का विमोचन तोदी गार्डन में अध्यक्ष पवन महेश्वरी भजपा, सुल्तान सिंह राठौड़, पवन तोदी ने किया।
Image
काशी भूमि सेवा संस्था के कार्यकारी निदेशक श्री भूपेंद्र राय ने रोशन कुमार राय द्वारा लिये गये साक्षात्कार मे कहा-समाज सेवा और जनहित ही है मेरा पहला लक्ष्य
Image
पिलखुवा में राष्ट्रीय ग़जलकार सम्मेलन सम्पन्न
Image