डॉ. देवेन्द्र शर्मा द्वारा रचित रचना "नारी"

 










नारी........................ 

भोले भगवन के मन में एक

आया पूत विचार

उन ने रची एक सुंदर रचना

सृष्टि का शृंगार

भेंट कर दिया मानवता को

सुंदर वह उपहार

भरकर उसमें अंतर तम के

आंसू और अंगार ।

आकर वह अंतर हृत रचना

जग पर हो गई वारी,

प्रभु ने उसको बड़े प्यार से

दिया नाम था नारी ।।


आंसू लेकर अपने आंचल

मां भग्नि बन जाती

पुत्री बनकर वह तो जग को

भेंट नई दे जाती

माता बनकर अपने पूतों

गाय बने अलब्याई

उनकी रक्षा के हित में वह

बने सिंहनी जाई ।

वही बर्फ से ज्वाला बनने

की करती तैयारी

प्रभु ने उसको बड़े प्यार से

दिया नाम था नारी ।।


अरुंधति अनुसूया यशोदा

कौशल्या बन जाती

ब्रह्मा विष्णु शिव शंकर को

पलनों में है झुलाती

वह ही नारी वक्त पड़े जब

दुर्गा बन आ जाती

काली रणचंडी बनकर के

असुर रक्त पी जाती ।

अपनी संतानों के हित में

बनती वह ना क्या री !

प्रभु ने उसको बड़े प्यार से

दिया नाम था नारी ।।


वह ही आकर इस जग में फिर

क्या-क्या वेष धरे

दुर्गावती कर्णावती हाड़ी

पद्मिनी मान भरे

पूत पति दोनों को अपने

देशों बलि करे

जीजा बाई लक्ष्मी बाई

बन करे गर्व खरे

इन नवरात्रों आवाहन सुन

उसी रूप तू आ री

प्रभु ने जिसको बड़े प्यार से

दिया नाम था नारी।।


प्रस्तुति:-डाटला एक्सप्रेस 

दूरभाष:-8800201131

ईमेल:-datlaexpress@gmail.com

Comments
Popular posts
जीडीए के नए उपाध्यक्ष क्या लगा पाएंगे प्रवर्तन जोन 06 के इंदिरापुरम क्षेत्र में हो रहे अवैध निर्माणों पर अंकुश।
Image
जीडीए प्रवर्तन जोन एक (01) अभियंताओं के संरक्षण में वर्षों से संचालित हैं कई अवैध मार्केट्स।
Image
भारतीय किसान यूनियन "अंबावता" द्वारा ओला वृष्टि से हुए किसानों के नुकसान पर मुआवजा देने के लिए राष्ट्रपति के नाम दिया ज्ञापन।
Image
गाज़ियाबाद विकास प्राधिकरण के उद्यान अनुभाग अंतर्गत आने वाले सिटी फॉरेस्ट के वाहन पार्किंग स्थल पर तैनात कर्मी जीडीए द्वारा निर्धारित वाहन पार्किंग मूल्य हेतु टिकट पर अंकित मूल्य से अधिक ले रहे हैं पैसे।
Image
गाज़ियाबाद के लोनी में कोरोना के बढ़ते मामलों से पूरा क्षेत्र दहशत में