हँस लेते हैं "लेखक ममता शर्मा"

प्रस्तुति 'डाटला एक्सप्रेस' 


चाहे जितने भी हों ग़म हम हँस लेते हैं

पलक भले रहती हों नम हम हँस लेते हैं

दूरी में भी नज़दीकी के ख्वाब देखकर

ख़ुशी- ख़ुशी जीकर हरदम हम हँस लेते हैं

बरस रही है मौत महामारी बन सब पर

भले फिक्र का है आलम हम हँस लेते हैं

मोरों का स्वर नहीं आज संकेत मेघ का

बदल गया चाहे मौसम हम हँस लेते हैं

यहाँ वहाँ सब बंद बची हैं केवल साँसे

देख वक्त पर छाया तम हम हँस लेते हैं

दुखी सभी हैं हम भी तुम भी ये भी वो भी

फिर भी ज़्यादा या कुछ कम हम हँस लेते हैं

दुनिया में दुख इसके या उसके कारण है

नहीं पालते कभी वहम हम हँस लेते हैं

डरना मरने से बदतर है यही मानकर

जिंदा रख अपना दमखम हम हँस लेते हैं।।।।


ममता शर्मा "अंचल"

Comments
Popular posts
न्यायाधीश रेखा शर्मा की उपस्थिति में असंध बार एसोसिएशन का शपथ ग्रहण समारोह सम्पन्न:
Image
लाइनमैन उदयवीर को बिजली घर से हटाने को तैयार नहीं है अधिकारी 
Image
ग्रुप हाउसिंग सोसाइटी एमएसएस ब्लिस होम्स (MSS BLISS Homes) में अवैध निर्माण व एनजीटी नियमों का उल्लंघन
Image
मुख्य अभियंता मुकेश मित्तल एक्शन मे, भ्रष्‍ट लाइन मैन उदय प्रकाश को हटाने एवं अवर अभियंता के खिलाफ विभागीय कार्यवाही के दिये आदेश
Image
शालीमार गार्डन एक्सटेंशन 2( डेढ़ सौ फुटा रोड) को हॉटस्पॉट होने के कारण किया गया बंद 
Image