एरिया इस्पेक्टर की उदासीनता के चलते, राशन डीलर अभिषेक गुप्ता बांट रहा है 1 किलो कम राशन

 


डाटला एक्सप्रेस संवाददाता/पंकज तोमर

गाजियाबाद:-भोपुरा,डिफेंस कॉलोनी,60 फुटा रोड, साहिबाबाद स्थित सरकारी उचित दर की दुकान संख्या 233, जिसके मालिक का नाम अभिषेक गुप्ता है द्वारा एरिया इंस्पेक्टर प्रियंका राय की मिलीभगत से सभी कार्ड धारकों को पिछले एक वर्ष से एक किलो राशन कम वितरण किया जा रहा है। इस गंभीर भ्रष्टाचार का प्रमाण दिनांक 5-5-2021 कि दोपहर को देखने को मिला जब विजय नामक कार्ड धारक ने इसका विरोध किया तो उसे कोटा मालिक व उसके साथियों द्वारा बुरी तरह पीट दिया गया। जिसमें दुकान मालिक ने पहले तो कार्ड धारक को 1 किलो राशन कम देने की पर्ची बना दी जिस पर उसने आठ की जगह सात किलो चावल लिख दिए, जबकि कार्ड धारक को 8 किलो चावल मिलने थे। जब कार्ड धारक विजय ने 1 किलो कम चावल देने के बारे में दुकान मालिक अभिषेक गुप्ता से पूछा तो वह कहने लगा की हम तो सभी को 1 किलो राशन कम दे रहे हैं। जिसपर कार्ड धारक राशन पूरा 8 किलो लेने की बात पर अड़ गया। इसी बात को लेकर दुकान मालिक अभिषेक गुप्ता व उसके तीनों लड़को ने विजय को बुरी तरह लात-घुसो से पीटने लगे।वहां पर खड़े एक लड़के ने जब इस पूरी घटना की वीडियो बनाई तो उसको भी राशन डीलर के लड़कों ने पहले तो मारना शुरू कर दिया और उसके बाद उसका फोन छीन कर फोन से उक्त घटना की वीडियो डिलीट कर दी। उक्त घटना की सारी जानकारी तुरंत पुलिस प्रशासन व खाद्य आपूर्ति अधिकारी डीएसओ/एरिया इंस्पेक्टर प्रियंका राय को दी गई। जिस पर प्रियंका राय फॉर्मेलिटी पूरा करते हुए कहने लगी कि जब तक हम इस प्रकरण की जांच पूरी नहीं कर लेते तब तक के लिये मैं इस दुकान को बंद करवा देती हूं। परंतु उनके सभी दावे बिल्कुल खोखले साबित हुए क्यूंकि दुकान आज भी खुली हुई है।कोटा मालिक अभिषेक गुप्ता की मनबढ़इ एवं शाशन/प्रशासन के प्रति उसके बेख़ौफ़ रवैये को देखिये कि वह अभी भी कार्ड धारकों को नियत से कम राशन वितरण कर रहा है। इसे देख कर तो यही लगता है कि इस भ्रष्टाचारी प्रकरण को और अधिक बढ़ावा देने में कहीं ना कहीं एरिया इंस्पेक्टर प्रियंका राय की भी मुख्य भूमिका है। 



कई कार्ड धारकों ने बताया की कोटा मालिक अभिषेक गुप्ता यह कहता रहता है कि यदि हम राशन कम नहीं देंगे तो अधिकारियों व लड़कों का खर्चा क्या अपनी जेब से निकालेंगे। अब यहां सोचने वाली बात है की इस महामारी और बहुत अधिक संकट के दौर में भी यह लोग आम जनता की गर्दन पर छुरी रखकर अपना और अधिकारियों का पेट भरने में लगे हुए है। वही कई कार्ड धारकों ने बताया कि हमें यह दुकान मालिक तकरीबन 1 साल से 1 किलो राशन कम दे रहा है जिसे आप वीडियो में साफ तौर पर देख सकते हैं, हमने कई बार राशन कम देने का विरोध किया, तो उसने हमें राशन देने से मना कर दिया और कहने लगा जाकर मेरी शिकायत गाजियाबाद के किसी भी बड़े अधिकारी से कर दो देखता हूं कि मेरा या मेरी दुकान का तुम क्या बिगाड़ लोगे।

आज पूरी दुनिया में कोरोना महामारी का प्रकोप है। इसकी चपेट में आकर आए दिन हजारों की तादात में लोग अपनी जान गवा रहे है। भारत सरकार गरीब जनता को इस महामारी में फ्री राशन वितरण करने की बात कह रही है। परंतु दूसरी ओर केंद्र सरकार की नेक मंशा पर ऐसे ही कुछ सरकारी उचित दर की दुकान मालिकों द्वारा विभागीय अधिकारियों से अपनी साठ-गांठ बिठा पलिता लगाया जा रहा है।

हमारे द्वारा कार्ड धारकों के अधिकार एवं जनहित को ध्यान में रखते हुए हर संभव स्तर पर शिकायत की जा रही है जिसमें देखना दिलचस्प होगा कि जिला खाद्य आपूर्ति अधिकारी क्या कार्यवाही करते हैं।

Comments