जीडीए प्रवर्तन जोन एक (01) अभियंताओं के संरक्षण में वर्षों से संचालित हैं कई अवैध मार्केट्स।

 


... जोन में हर तरफ अतिक्रमण और अवैध मार्केट्स का है बोलबाला। 

. जीडीए नियमावली को ताक पर रख, जोन अभियंताओं द्वारा वर्षों से अनेकों अवैध मार्केट्स को करवाया जा रहा है संचालित। 

. जीडीए के लिये प्रवर्तन जोन एक है सबसे ज्यादा उपजाऊ, भ्रष्टाचारियों के लिये किसी KGF से कम नहीं। 


डाटला एक्सप्रेस संवाददाता/880020131

गाज़ियाबाद:-गाज़ियाबाद विकास प्राधिकरण अपने अंदरुनी भ्रष्टाचार के चलते आज कई प्रकार की जांचों का सामना कर रहा है। बीते कुछ माहों में हमने जीडीए के कई अधिकारियों/कर्मचारियों के भ्रष्टाचारी गतिविधियों में लिप्त होने के चलते उनके निलंबन/तबादलों की ख़बरें भी सुनी।परंतु इन सब कार्यवाहियों का गाज़ियाबाद विकास प्राधिकरण प्रवर्तन खंड जोन एक (01) के अभियंताओं पर कोई खास असर पड़ता दिखाई नहीं दे रहा है। जोन अभियंताओं द्वारा सरकारी नियमों को ताक पर रखकर जनहित का ध्यान ना रखते हुए आज पूरे जोन में हर जगह, जहां भी नज़र जाये अनगिनत अवैध मार्केट्स को सालों से अपनी छत्र-छाया में संचालित करवा रखा है।

. केवल रोड किनारे फुटपाथ पर समान बेचने वालों पर चलता है जीडीए का बुलडोजर। 

आज आप गाज़ियाबाद विकास प्राधिकरण की आधिकारिक वेबसाइट, उनकी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म फेसबुक या ट्विटर पर जाकर देखेंगे तो आपको पता चलेगा कि आये दिन इनके द्वारा सड़क किनारे किये गये अतिक्रमण से लेकर अवैध निर्माणों को किस प्रकार ध्वस्त किया जा रहा है। जिसमें उनकी मेहनत भी काफी अच्छे से दिखाई पड़ती है, कि कैसे इनके द्वारा सड़क किनारे तेज धूप में अपने परिवार का भरण-पोषण करने के लिये फुटपाथ पर बैठे उन गरीब लोगों को गैर इंसानियत तरीके से हटाया जाता है जो केवल 2 या 5 सौ रुपये कमाने के लिए सुबह से लेकर शाम तक चाहे धूप हो या बारिश खड़े/बैठे रहते हैं ताकि उनकी कुछ बिक्री हो पाये और उनके परिवार को दो वक्त की रोटी नसीब हो जाए। परंतु इन्हें पूरे जोन में भिन्न-भिन्न स्थानों पर बनी अनेकों अवैध मार्केट्स और उनके द्वारा किया गया अतिक्रमण नहीं दिखाई पड़ता। क्यूंकि एक गरीब व्यक्ति से भला इन्हें क्या फायदा मिलेगा जो इन अवैध मार्केट्स के मालिकों द्वारा मिल जायेगा।


. ऊपर की तस्वीर में 01 जनवरी 2021 को प्रवर्तन जोन एक द्वारा अपने फेसबुक पेज पर की गई पोस्ट, जिसमें उनके द्वारा अतिक्रमण हटाने का किया जा रहा है दावा

 

यहां देखें कुछ ऐसी ही अवैध मार्केट्स जो गाज़ियाबाद विकास प्राधिकरण प्रवर्तन जोन एक (01) के अभियंताओं की उदासीनता और भ्रष्‍ट रवैये के कारण वर्षों से संचालित हैं, जिनपर जीडीए का बुलडोजर कभी भी चल नहीं पाया। जिन्हें आज हम आपके समक्ष लाना चाहते हैं, जिसे देख आपको मालूम होगा कि आज के समय में जीडीए का प्रवर्तन जोन 01 किस प्रकार भ्रष्टाचारी दलदल बन चुका है।जिसके अभियंताओं की सरपरस्ती में ऐसी अवैध मार्केट्स वर्षों से संचालित हैं। 



जे.पी मार्केट, एम आर 321 ग्रुप हाउसिंग सोसाइटी के सामने, गोल चक्कर के पास, राज नगर एक्सटेंशन, गाज़ियाबाद, उत्तर प्रदेश 

शर्मा मार्केट, एम आर 321 ग्रुप हाउसिंग सोसाइटी के सामने, गोल चक्कर के पास, राज नगर एक्सटेंशन, गाज़ियाबाद 

त्यागी मार्केट, रिवर हाइट ग्रुप हाउसिंग सोसाइटी के सामने, गोल चक्कर के पास, राज नगर एक्सटेंशन, गाज़ियाबाद, उ.प्र 


. प्रवर्तन जोन एक में वर्षों से जमें बैठे हैं कुछ अवर अभियंता,जो जोन में चला रहे हैं अपनी समानान्तर सरकार 

यहां एक सबसे ज़रूरी और गंभीर विषय यह है कि उक्त जोन में कुछ ऐसे अवर अभियंता हैं जो अपनी अंदरुनी राजनीति और विभाग में अपनी अच्छी-खासी पकड़ के चलते वर्षों से प्रवर्तन जोन एक में जमें बैठे हैं।जोन के भीतर हर दूसरे महीने कई अधिकारीयों/कर्मचारियों के अंदरुनी तबादले इस जोन से अन्य जोनों में होते रहते हैं। परंतु प्रवर्तन जोन एक के कुछ अवर अभियंताओं ने अपनी जड़ों को जीडीए के भीतर इतना अधिक मजबूत कर लिया है कि कई वर्षों से उनका तबादला इस जोन से किसी अन्य जोन में नहीं किया गया। विभागीय अधिकारियों, क्षेत्रीय नेताओं, बाहुबलियों और बिल्डरों से अपनी अंदरुनी साठ-गाँठ बिठा आज ऐसे अभियंताओं द्वारा क्षेत्र में अपनी एक समानांतर सरकार चलाई जा रही हैं।जिसमे अवैध निर्माणों को संरक्षण देना, अवैध मार्केट्स, बैंक्वेट हॉल, स्कूल्स, हॉस्पिटल्स आदि को अपने संरक्षण में संचालित करवा क्षेत्र से हर महीने लाखों की वसूली करवाना शामिल है। यहां यह कहना गलत नहीं होगा कि आज पूरे प्रवर्तन जोन 01 को इन्हीं कुछ अवर अभियंताओं द्वारा संचालित किया जा रहा है। यदि इसकी जांच जीडीए के अतिरिक्त किसी अन्य स्वतंत्र जांच एजेंसी द्वारा करवा ली जाए तो सारा मामला शीशे की तरह साफ हो जायेगा। क्यूंकि जीडीए का हाल कुछ ऐसा है कि आप जिस अधिकारी के विरुद्ध शिकायत करेंगे, वहीं अपनी खुद की जांच कर उसपर आख्या प्रेषित कर देता है। यानी यहां मुजरिम और मुंसिफ दोनों एक ही हैं। तो भला जनहित में नैसर्गिक न्याय कहा हो पाएगा। 

. जीडीए से बाहर बैठे अधिकारियों को नहीं पाती कोई जानकारी 

दरअसल यह सब चीजें सम्भव केवल इसलिए हो पाती है, क्यूंकि इन सब भ्रष्टाचारी गतिविधियों से संबंधित जानकारियां जीडीए से बाहर बैठे जनपद/मंडल/शाशन स्तर के अधिकारियों को नहीं मिल पाती। जिस कारण ऐसे भ्रष्ट अधिकारियों के विरुद्ध कोई भी ठोस विभागीय/कानूनी कार्यवाही आज दिन तक नहीं हो पाई है। जिससे इनके हौसले और अधिक बुलंद होते है।जिसे ध्यान में रखते हुए और विशेषकर जनहित को ध्यान में रखते हुए हमारे द्वारा इन सभी अवैध मार्केट्स की जानकरीयों को जीडीए समेत जनपद/मंडल और शाशन स्तर के सभी उच्चधिकारियों तक भेज मामले से संबंध रखने वाले अभियंताओं के विरुद्ध सख्त से सख्त विभागीय/कानूनी कार्यवाही करने की मांग की जाएगी। हमारे समाचार पत्र द्वारा क्षेत्र में संचालित अन्य सैकड़ों अवैध मार्केट्स की जानकरीयों को एकत्रित किया जा रहा है। जिसे समय-समय पर प्रकाश में लाया जायेगा।

Comments