अवर अभियंता संजय गंगवार के संरक्षण में निर्माण कार्य हेतु किया जा रहा है घटिया सामग्री का प्रयोग

 


डाटला एक्सप्रेस संवाददाता "पंकज तोमर" 

(संजय गंगवार द्वारा निर्माण मानकों को ठेंगे पर रख की जाती है मनमानी) 

(पूर्व में घटित कई दुर्घटनाओं के बावजूद नहीं ले रहे हैं कोई सबक) 

गाजियाबाद:-साहिबाबाद क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले शालीमार गार्डन वार्ड नंबर 37 मे नाला बनाने का निर्माण कार्य चल रहा है। इस कार्य को करने के लिए लाखों का ठेका नगर निगम द्वारा पवन चौहान नामक ठेकेदार को दिया गया है। परंतु अवर अभियंता संजय गंगवार की छत्रछाया में ठेकेदार नाला निर्माण कार्य हेतु बहुत ही घटिया गुणवत्ता की निर्माण सामग्रियों का उपयोग कर रहा है जिसे आप प्रकाशित तस्वीर में भी साफ तौर पर देख सकते हैं। यह पूरा कृत्य पूर्णतः अभियंता संजय गंगवार के संज्ञान में भी है। वही आसपास के कुछ लोगों ने बताया की ठेकेदार पवन चौहान नगर निगम के कुछ लोगों की मिलीभगत से जिस नाले को बना रहा है उसमें लगने वाले मसाले को बहुत ही घटिया तरीके से तैयार कर उसके द्वारा लगाया जा रहा है। जिसमें करीब अट्ठारह तसले रोड़ी और सोलह तसलें डस्ट के ऊपर मात्र एक कट्टा सीमेंट डालकर एक घान को तैयार कर रहा है जिसकी वजह से यह नाला बहुत जल्दी टूटना शुरू हो जाएगा जिससे आम जन को बहुत कठिनाइयों का सामना करना पड़ेगा क्योंकि जहां पर इस नाले का निर्माण कार्य चल रहा है उस रास्ते पर पूरे दिन में हज़ारों की संख्या में छोटे-बड़े वाहन गुज़रते हैं। यदि भविष्य में नाले से जल रीसाव की स्थिति उत्पन होती है जो इसकी गुणवत्ता को देखते हुए कहीं ना कहीं निश्चित भी दिखाई दे रही है तो इस नाले के बराबर में बने सैकड़ों मकानों की नीवो मे भी पानी भरना शरू हो जाएगा जिससे मकान कि नींव कमजोर हो सकती है जिसके परिणामस्वरूप भविष्य में हमे किसी अप्रिय घटना को देखना पड़ सकता है । 


बावजूद इसके अवर अभियंता मामले की गम्भीरता को समझते हुए भी कोई उचित कार्यवाही नहीं कर रहे हैं। इसके साथ-साथ आपको एक और बात से अवगत कराते चलें कि अभी दो दिन पूर्व विजयनगर क्षेत्र में घटिया सामग्री लगाकर एक नाले का निर्माण किया गया था जिससे निर्माण के अगले दिन ही वह नाला अपने आप टूट कर गिर गया। नाला टूटने की वजह से आसपास के लोगों ने काफी हंगामा किया तब जाकर नगर निगम के अधिकारियों की आंखें खुली।

अभी जल्दी में ही घटित वाक्या जिसने प्रदेश के साथ-साथ देश में भी काफी सुर्खियां बटोरी थी जिसमें शमशान घाट का निर्माण कार्य घटिया सामग्री लगाकर किए जाने के कारण तेज बारिश के दौरान उसकी छत अचानक गिर गई जिसके नीचे दबकर दर्जनों लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ गई थी। 

लगातार कई हादसे होने और उनसे सबक ना लेते हुए आखिर क्यूँ जेई संजय गंगवार ऐसे ठेकेदारों के खिलाफ कोई सख्त कार्यवाही क्यों नहीं करते हैं। इससे साफ जाहिर होता है की कहीं ना कहीं ये सभी एक ही थाली के चट्टे-बट्टे हैं। 

गुप्त सूत्रों की माने तो ठेकेदार पवन का भाजपा और नगर निगम में अच्छी पकड़ है जिस कारण अवर अभियंता संजय गंगवार उसके विरुद्ध कोई भी कार्यवाही नहीं करतें, सूत्रों के अनुसार इस ठेकेदार के कई अन्य ठेके भी गाज़ियाबाद में चल रहे हैं जिनकी जानकारी हमारे द्वारा की जा रही है। 

वैसे पूरे मामले को नगर निगम के उच्चधिकारियों के साथ-साथ जिला, मंडल एवं शाशन स्तर पर की जा रही है।

Comments