सृष्टि के रोम रोम में शिवाय

डाटला एक्सप्रेस संवाददाता/9810862251

भगवान शिव सनातन धर्म के सर्वशक्तिमान देवों में से एक हैं। शिव ऐसे अद्भुत देव हैं जो सभी को प्रिय हैं। न तो उन्होंने स्वर्णाभूषण और सुनहरे परिधान पहने हैं, न ही उन्हें विलासितापूर्ण जीवन प्रिय है। सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण यह है कि भगवान शिव को संहारक भी कहा गया है। क्या यह विचित्र नहीं है कि वे संहारकर्ता हैं लेकिन सदा ध्यान मुद्रा में लीन रहते हैं? शिव आदि योगी हैं, प्रथम गुरु हैं और प्रथम योगी हैं। बहुत कम अवसर होते हैं, जब शिव क्रोध करते हैं, परन्तु जब उन्हें क्रोध आता है तो वे विनाश कर देते हैं।

भगवान शिव अज्ञान, कामनाओं, मृत्यु, पीड़ा, अहंकार, वासना, मोह-माया और क्रोध का नाश करते हैं। इसलिए भक्त भगवान शिव की शरण में जाते हैं, जो सदा शांत एवं सच्चिदानंद स्वरूप हैं। भगवान शिव को त्रिमूर्ति का महत्त्वपूर्ण देव माना गया है। दो अन्य देव ब्रह्मा एवं विष्णु हैं।

ब्रह्मा इस भौतिक जगत के सृजनकर्ता हैं और ब्रह्मांड के वैज्ञानिक नियमों के जनक हैं। विष्णु संसार के पालनकर्ता हैं। ब्रह्मा द्वारा रचित इस संसार को नष्ट करना उनके लिए असंभव था क्योंकि यह ब्रह्मा के बताए गए सृष्टि के नियमों के प्रतिकूल होता। इसीलिए ब्रह्मा व विष्णु दोनों अपने-अपने कत्र्तव्यों सृष्टि के सृजन और पालन के लिए प्रतिबद्ध थे। दूसरी ओर महेश यानी शिव सृष्टि के सभी नियमों से परे हैं। विश्व के सभी बंधनों से मुक्त वे परम वैरागी हैं। इसलिए संहार करने की शक्ति शिव में निहित है। ब्रह्मांड में एकमात्र शिव हैं जो द्रव्य को ऊर्जा में बदल सकते हैं।

ब्रह्मा द्वारा रचित सृष्टि उस समय स्थायी नहीं थी। इसलिए ब्रह्मा और विष्णु ने शिव से आग्रह किया कि वे इस चराचर जगत को स्थायित्व प्रदान करें और शिव ने उनकी विनती स्वीकार ली। जगत को स्थिरता प्रदान करने के लिए भगवान शिव ने द्वैत रूप धारण किया। यह है शिवऔर शक्ति(भगवान शिव की द्विध्रुवीय प्रकृति)। यह भगवान शिव की तरंग-कण द्वैत प्रकृति है, जो भौतिक यथार्थ में विद्यमान है। इस रूप में शिव एक कण हैं और देवी शक्ति एक तरंग। दोनों इस जगत की स्थिरता बनाए रखने के लिए एक-दूसरे को पकड़े हुए हैं। शिव, शक्ति से कभी अलग नहीं हैं। भगवान शिव के इस स्वरूप के कारण ही जीवन सृष्टि का अनिवार्य अंग है।

एक ओर जहां भगवान शिव की पूजा सबसे आसान हैं, वहीं वे देवाधिदेव महादेव भी हैं। जितने सरल शिव हैं, उतना ही विकट उनका स्वरूप है, जिसका कोई मेल ही नहीं है। गले में सर्प, कानों में बिच्छू के कुंडल, तन पर बाघंबर, सिर पर त्रिनेत्र, हाथों में डमरू, त्रिशूल और वाहन नंदी। भगवान शिव के इस अद्भुत स्वरूप से हमें कई बातें सीखने को मिलती हैं।

कुल मिलाकर यह कहें कि यदि आपको जीने की कला सीखनी हो तो आप भगवान शिव के दर्शन को अपने जीवन में उतार सकते हैं। शिव, बुराई और अज्ञानता के साथ ही अहंकार को नष्ट करने की सीख देते हैं। उनके पवित्र शरीर पर स्थित हर पवित्र चिह्न जीवन जीने की शैली के लिए कुछ न कुछ सीख देता है।

शिव योग को स्वयं भगवान शिव से आशीर्वाद प्राप्त है कि जो तुम्हारे उपस्थित रहने पर कोई भी धर्म-कर्म मांगलिक अनुष्ठान आदि कार्य करेगा वह संकल्पित कार्य कभी भी बाधित नहीं होगा उसका कार्य का सुपरिणाम कभी निष्फल नहीं रहेगा इसीलिए इस योग के किए गए शुभकर्मों का फल अक्षुण रहता है। सिद्ध योग में भी सभी आरम्भ करके कार्यसिद्धि प्राप्त की जा सकती है। इन योगों के विद्यमान रहने पर रुद्राभिषेक करना, शिव नाम कीर्तन करना, शिवपुराण का पाठ करना अथवा शिव कथा सुनना, दान पुण्य करना तथा ज्योतिर्लिंगों के दर्शन करना अतिशुभ माना गया है।

हजारों सालों से विज्ञान शिव के अस्तित्व को समझने का प्रयास कर रहा है। जब भौतिकता का मोह खत्म हो जाए और ऐसी स्थिति आए कि ज्ञानेंद्रियां भी बेकाम हो जाएं, उस स्थिति में शून्य आकार लेता है और जब शून्य भी अस्तित्वहीन हो जाए तो वहां शिव का प्राकट्य होता है। शिव यानी शून्य से परे। ज्योतिषाचार्य अनीष व्यास ने बताया कि कोई व्यक्ति भौतिक जीवन को त्याग कर सच्चे मन से मनन करे तो शिव की प्राप्ति होती है। उन्हीं एकाकार और अलौकिक शिव के महारूप को उल्लास से मनाने का त्योहार है महाशिवरात्रि।




प्रफुल्ल सिंह "बेचैन कलम"

युवा लेखक/स्तंभकार/साहित्यकार

लखनऊ, उत्तर प्रदेश

व्हाट्सअप : 6392189466

ईमेल : prafulsingh90@gmail.com

Comments
Popular posts
प्रकाशित ख़बरों व प्रेषित शिकायतों से बौखलाये खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन के क्षेत्रीय अधिकारी आशीष गंगवार, भिन्न-भिन्न माध्यमों से बना रहे पत्रकार पर दबाव
Image
कविता:-जो मन कहता
Image
अखिल भारतीय सफाई मजदूर "कांग्रेस" के महामंत्री सोहन सिंह मेहरोलिया, सफाई कर्मचारियों की मांगों को लेकर मिलने पहुंचे मेयर हाउस दिल्ली:-अखिल भारतीय सफाई मजदूर कांग्रेस के महामंत्री सोहन सिंह मेहरोलिया, सफाई कर्मचारियों की मांगों को लेकर मेयर हाउस पहुंचे। तिमारपुर सिविल लाइन जोन मीटिंग में चर्चा की गई की सफाई कर्मचारियों की यूनियन के नेताओं को 4 माह का समय दिया गया था एवं एक ऑफिस ऑर्डर कॉपी निकाल कर दी गई थी जिसमें पूर्व मेयर जयप्रकाश जेपी जी ने कहा था कि 4 माह के अंदर तीनों निगमों में सभी सफाई कर्मचारी पक्के हो जाएंगे।परंतु यह कार्य चार माह बीतने के बाद भी नहीं किया गया। वर्तमान समय में मेयर राजा इकबाल सिंह हैं। अखिल भारतीय सफाई मजदूर कांग्रेस 7262 संगठन का एक जत्था डेलिगेशन के रूप में अपने सभी साथियों सहित मेयर से मिलने पहुंचे और मिलकर उन्हें यह ज्ञापन सौंपा गया की 1 सप्ताह के अंदर अगर इस पर इंप्लीमेंट नहीं करती है तो संगठन निगम प्रशासन व मेयर स्टैंडिंग कमेटी पूरी लॉबी के झूठ बोलने के आरोप के खिलाफ में प्रदर्शन करने पर बाध्य हो जाएगा। मेयर राजा इकबाल सिंह ने सभी लोगों को आश्वस्त करते हुए कहा कि जिन लोगों को ऑफर लेटर बट चुके हैं उन्हें अगले हफ्ते तक मेडिकल लेटर दिए जायेंगे। मीटिंग के दौरान मौजूद रहे राष्ट्रीय प्रमुख महामंत्री सोहन सिंह मेहरोलिया, राष्ट्रीय संगठन मंत्री चरण सिंह टांक, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष सतीश कंडेरा, दिल्ली प्रदेश के अध्यक्ष नंदकिशोर ढिलोर, कार्यवाहक अध्यक्ष सुरेश बागड़ी, वरिष्ठ उपाध्यक्ष सतवीर बागड़ी, उपाध्यक्ष अनूप बहोत, उपाध्यक्ष रोहतास टाक, प्रदेश महामंत्री अनिल बहोत, प्रदेश कोषाध्यक्ष विजय चौटाला, प्रदेश संगठन मंत्री संतोष कुमार गोडियाल, दिल्ली प्रदेश महामंत्री मुकेश चावरिया, मीडिया प्रभारी प्रदेश मुकेश ढैडंवाल, दिल्ली प्रदेश सह प्रभारी विजयपाल बिड़लान, दिल्ली प्रदेश कानूनी सलाहकार एडवोकेट बृजेश कुमार, महाराष्ट्रा नासिक से आए प्रतिनिधिमंडल के साथ संजय कल्याण व जोन अध्यक्ष नवीन झंझोट, दीपक सूट, अनिल चंडालिया, सुखबीर सारसर, वीरू चंडालिया, विनोद गहलोत, रविंदर सिलेलान, कर्मवीर टॉक, निवेदक दिल्ली प्रदेश महामंत्री मुकेश चावरिया
Image
शालीमार गार्डन एक्सटेंशन 2( डेढ़ सौ फुटा रोड) को हॉटस्पॉट होने के कारण किया गया बंद 
Image
कविता:-कुछ अहसास कहो जी
Image