आपके समक्ष प्रस्तुत है, कवि ऋतु मिश्रा द्वारा रचित रचना, अंधेरा है दिल में




अंधेरा है दिल में चले आओ ना ,

दिल की दुनिया को रोशन कर जाओ ना ।


तुम्हारे बिना सब सूना सूना लगता है ;

फिर से इस खाली जगत को भर जाओ ना ।


तुम्हारी याद मुझे हर पल रुलाती है ,

तुमको है कसम अब तड़पाओ ना ।


तुम्हारे बिन जीने की आदत नहीं मुझे ,

अपनी यह आदत मुझसे छुड़ाओ ना ।


हर जगह बस तुम ही तुम दिखते हो ;

अब इतना भी मुझको सताओ ना ।


दिल की दुनिया के इकलौते हकदार हो तुम ;

किसी और के लिए कोई शक लाओ ना ।।



ऋतु मिश्रा/अंबेडकर नगर/उ.प्र 

प्रस्तुति:-डाटला एक्सप्रेस समाचार पत्र/9810862251/8800201131


Comments
Popular posts
नही हुई कार्यवाही तो आरटीओ कार्यालय का घेराव कर करेंगे तालाबंदी पं. सचिन शर्मा (प्रदेश अध्यक्ष)
Image
मुख्य अभियंता मुकेश मित्तल एक्शन मे, भ्रष्‍ट लाइन मैन उदय प्रकाश को हटाने एवं अवर अभियंता के खिलाफ विभागीय कार्यवाही के दिये आदेश
Image
प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की छत्रछाया में अवैध फैक्ट्रियों के गढ़ गगन विहार कॉलोनी में हरेराम नामक व्यक्ति द्वारा पीतल ढलाई की अवैध फैक्ट्री का संचालन धड़ल्ले से।
Image
वरिष्ठ कवियित्री ममता शर्मा "अंचल" द्वारा रचित एक खूबसूरत रचना "जो न समझते पाक मुहब्बत" आपको सादर प्रेषित
Image
चोरों के हौसले बुलंद-भोपुरा स्थित आशीष भारत गैस एजेंसी के ऑफिस का तोड़ा ताला
Image