आकाश महेशपुरी द्वारा रचित रचना

मुहब्बत की निशानी


मुहब्बत की निशानी ढूँढता हूँ,

वही अपनी जवानी ढूँढता हूँ।


कभी ख़त तो कभी तस्वीर उसकी,

सभी चीजें पुरानी ढूँढता हूँ।


शहर में, गाँव में, सारे जहाँ में,

छुपा चेहरा नूरानी ढूँढता हूँ।


जो करता था मेरी रातें सुगंधित,

वही मैं रातरानी ढूँढता हूँ।


वही मैं ढूँढता हूँ प्यार उसका,

वही बारिश का पानी ढूँढता हूँ।


भले कंकर हुई है जिंदगानी,

नदी सी मैं रवानी ढूँढता हूँ।


दिलों के जो समुंदर में उठी थी,

वही फिर से सुनामी ढूँढता हूँ।


मिले पुस्तक अगर ‘आकाश’ कोई,

मुहब्बत की कहानी ढूँढता हूँ।



-आकाश महेशपुरी

कुशीनगर, उत्तर प्रदेश.

मो- 9919080399


प्रस्तुति:-डाटला एक्सप्रेस

वाट्सएप्प:-8800201131

ईमेल:-datlaexpress@gmail.com

Comments
Popular posts
मशहूर कवि डॉ विजय पंडित जी द्वारा रचित रचना "सुरक्षित होली प्रदूषणमुक्त होली"
Image
भक्त कवि श्रद्धेय रमेश उपाध्याय बाँसुरी की स्मृति में शानदार कवि सम्मेलन का किया गया आयोजन।
Image
भारतीय किसान यूनियन "अंबावता" द्वारा ओला वृष्टि से हुए किसानों के नुकसान पर मुआवजा देने के लिए राष्ट्रपति के नाम दिया ज्ञापन।
Image
अलवर राजस्थान की सुप्रसिद्ध एवं वरिष्ठ कवि ममता शर्मा 'अंचल' द्वारा रचित रचना "बंजारे दिल का"
Image
प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की छत्रछाया में अवैध फैक्ट्रियों के गढ़ गगन विहार कॉलोनी में हरेराम नामक व्यक्ति द्वारा पीतल ढलाई की अवैध फैक्ट्री का संचालन धड़ल्ले से।
Image