प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड "गाज़ियाबाद" के अवर अभियंता रंजीत सिंह की शह में चल रही है प्रदूषण फैलाने वाली अवैध फैक्ट्री










डाटला एक्सप्रेस संवाददाता/वाट्स एप 7834912551/ईमेल:-datlaexpress@gmail.com

गाज़ियाबाद:-साहिबाबाद मे प्रदूषण फैलाने वाली कई फैक्ट्रियों पर हमारे अखबार में जनहित को ध्यान में रखते हुए समय-समय पर कई ख़बरें प्रकाशित होती रहीं हैं जिसके पश्चात संबंधित विभागों द्वारा उन फैक्ट्रियों के विरुद्ध कड़ी कार्यवाहीयां भी की गई हैं। विभागीय कार्यवाहियों के दौरान फैक्ट्रियों के विद्युत कनेक्शन काटने से लेकर उन्हें सील बंद भी किया गया है। 99 फ़ीसदी यह कार्यवाहीयां डीवीजन के बाहर बैठे उच्चाधिकारियों के संज्ञान में आने के बाद हो पाई हैं क्यूंकि डीविजन के भीतर फैक्ट्री मालिकों एवं क्षेत्रीय अभियंता की साठ-गांठ के चलते उनके स्तर पर कोई उचित कार्यवाही होने की कामना करना बेमानी साबित होता आया है। अभी कुछ दिन पूर्व नाम उजागर ना करने की शर्त पर कुछ लोगों की शिकायत पर हमारे द्वारा एक खबर प्रकाशित की गई जो रिहाइशी इलाके डिफेंस कॉलोनी बिजली घर के बराबर से जाने वाले रास्ते पर चल रही जिंस रंगाई की फैक्ट्री से संबंधित थी जिस पर प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड "गाज़ियाबाद" के उच्चाधिकारियों ने तत्काल संज्ञान लेते हुए उक्त फैक्ट्री जो शादाब नामक व्यक्ति द्वारा संचालित थी का विद्युत कनेक्शन काट फैक्ट्री को बंद करा दीया था। बावजूद इसके कुछ लोग आज भी लगातार रिहायशी इलाकों में प्रदूषण फैलाने वाली फैक्ट्रियों को बंद करने का नाम नहीं ले रहे और आम लोगों की सेहत से खिलवाड़ कर रहे हैं। 


उक्त से संबंधित एक और मामला सामने आया है जिसमें रिहाइशी इलाके में खुलेआम अत्याधिक मात्रा में प्रदूषण फैलाने वाली जींस रंगाई की फैक्ट्री को फरान व फुरकान नामक व्यक्ति धड़ल्ले से चला रहे हैं। इस फैक्ट्री को भोपुरा पेट्रोल पंप के बराबर से जाने वाले रास्ते पर गुर्जर चौक से आगे डब्बी पहलवान एवं बॉबी कसाना के ऑफिस के पास चलाया जा रहा है। वही फरान व फुरकान की पकड़ मौजूदा सरकार में मजबूत बताई जाती है जिसका सहारा ले यह लोग आम लोगों की सेहत के साथ-साथ, सरकारी नियमों की धज्जियां उड़ाने में लगे हुए हैं। फैक्ट्री के मालिकों द्वारा लोगों से कहा जाता है कि किसी में दम है तो हमारी फैक्ट्री को बंद करा कर दिखाएं तब हम उसे सबक सिखाएंगे, जिसे पर्यावरण विभाग को सीधी चुनौती देने के रूप में देखा जा सकता है। इन सभी की मनबढ़ई का कारण प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड "गाज़ियाबाद" से इस क्षेत्र के लिए जिम्मेवार अवर अभियंता रंजीत सिंह हैं जिनकी मिलीभगत से यह और ना जाने कितनी अवैध फैक्ट्रियां इस क्षेत्र में संचालित हैं जिसके संबंध में कोई साक्ष्य देने की आवश्यकता नहीं केवल पूरे क्षेत्र का एक भ्रमण ही काफी है जिसके बाद आपको हैरानी होगी कि आपके क्षेत्र में किस प्रकार से ऐसी सैकड़ों अवैध प्रदूषण फैलाने वाली फैक्ट्रियां अवर अभियंता रंजीत सिंह की छत्र-छाया में फल-फूल रही हैं।इन फैक्टरियों से पहले इन जैसे भ्रष्‍ट सरकारी कर्मचारियों पर ठोस विभागीय और कानूनी कार्यवाही होना आवश्यक है जो अपने थोड़े से फायदे के चलते समाज को भारी क्षति पहुंचाते हैं।


जनहित और भ्रष्टाचार की रोकथाम को ध्यान में रखते हुए उक्त मामले की संक्षिप्त शिकायत ज़िला, मंडल एवं शाशन स्तर पर की जा रही हैह जिसमें मांग की जाएगी कि ऐसे अवर अभियंताओं को तत्काल निलंबित कर उनके ऊपर सख्त कार्यवाही की जाए।क्यूंकि एक या दो फैक्ट्रियों को सील करने से अधिक आवश्यक ऐसे अधिकारियों को हटा किसी ईमानदार, जुझारू एवं कर्मठ अधिकारी का आना जरूरी है तभी इन परेशानियों का निदान हो पाना सम्भव है ।