ग़ज़ल 

पेश आ कल की तरह आज भी।


खोल दे दिल की गिरह आज भी।।


 


बस कुछ ऐसे ही ये दिन गया।


फिर रोज़ कि तरह आज भी।। 


 


बस तेरे दीदार की ही तमन्ना रही।


क्यूं, पता नहीं ये वजह आज भी।। 


 


कुछ ख्वाइशों,ख्वाबों की आरज़ू में।


करती रही ये ज़ीस्त जिरह आज भी।।


 


बस तेरा ही ख़्याल सताता है मुझको।


फिर आई तेरी याद सुबह आज भी।। 


 


करते हैं यूं तो समझौता रोज ही। 


फिर ज़िंदगी से की सुलह आज भी।। 


 


सर उसी के दर पे झुकता है 'चंद्रेश'।


याद उसकी आती है बेतरह आज भी।। 


 



लेखिका चंद्रकांता सिवाल "चंद्रेश" 


करोल बाग (दिल्ली)


Comments
Popular posts
न्यायाधीश रेखा शर्मा की उपस्थिति में असंध बार एसोसिएशन का शपथ ग्रहण समारोह सम्पन्न:
Image
लाइनमैन उदयवीर को बिजली घर से हटाने को तैयार नहीं है अधिकारी 
Image
ग्रुप हाउसिंग सोसाइटी एमएसएस ब्लिस होम्स (MSS BLISS Homes) में अवैध निर्माण व एनजीटी नियमों का उल्लंघन
Image
मुख्य अभियंता मुकेश मित्तल एक्शन मे, भ्रष्‍ट लाइन मैन उदय प्रकाश को हटाने एवं अवर अभियंता के खिलाफ विभागीय कार्यवाही के दिये आदेश
Image
शालीमार गार्डन एक्सटेंशन 2( डेढ़ सौ फुटा रोड) को हॉटस्पॉट होने के कारण किया गया बंद 
Image