ग़ज़ल 

पेश आ कल की तरह आज भी।


खोल दे दिल की गिरह आज भी।।


 


बस कुछ ऐसे ही ये दिन गया।


फिर रोज़ कि तरह आज भी।। 


 


बस तेरे दीदार की ही तमन्ना रही।


क्यूं, पता नहीं ये वजह आज भी।। 


 


कुछ ख्वाइशों,ख्वाबों की आरज़ू में।


करती रही ये ज़ीस्त जिरह आज भी।।


 


बस तेरा ही ख़्याल सताता है मुझको।


फिर आई तेरी याद सुबह आज भी।। 


 


करते हैं यूं तो समझौता रोज ही। 


फिर ज़िंदगी से की सुलह आज भी।। 


 


सर उसी के दर पे झुकता है 'चंद्रेश'।


याद उसकी आती है बेतरह आज भी।। 


 



लेखिका चंद्रकांता सिवाल "चंद्रेश" 


करोल बाग (दिल्ली)


Comments
Popular posts
20 साल में पांच हत्या: साजिश ऐसी कि परिजन भी खा गए गच्चा, पांचवीं हत्या में जरा सी चूक से उजागर हुई करतूत
Image
Delhi Shootout: दिल्ली की रोहिणी कोर्ट में गैंगस्टर की हत्या, पुलिस ने दोनों हमलावर भी मार गिराए
Image
जेएमटी जितेंद्र कुमार ने उगाही सिंडिकेट चलाने हेतु रखे हुए है दो प्राइवेट लड़के
Image
शालीमार चौकी क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले एक्सटेंशन वन रॉयल प्लाजा बिल्डिंग के ग्राउंड फ्लोर पर चल रहा है देह व्यापार का धंधा
Image
"चन्द्र फ़िल्म प्रोडक्शन" बैनर तले बनी मायड़ भाषा की फिल्म "बावळती" के पहले पोस्टर का विमोचन चूरू के ऐतिहासिक नगर श्री सभागार में संपन्न।
Image