ग़ज़ल 

पेश आ कल की तरह आज भी।


खोल दे दिल की गिरह आज भी।।


 


बस कुछ ऐसे ही ये दिन गया।


फिर रोज़ कि तरह आज भी।। 


 


बस तेरे दीदार की ही तमन्ना रही।


क्यूं, पता नहीं ये वजह आज भी।। 


 


कुछ ख्वाइशों,ख्वाबों की आरज़ू में।


करती रही ये ज़ीस्त जिरह आज भी।।


 


बस तेरा ही ख़्याल सताता है मुझको।


फिर आई तेरी याद सुबह आज भी।। 


 


करते हैं यूं तो समझौता रोज ही। 


फिर ज़िंदगी से की सुलह आज भी।। 


 


सर उसी के दर पे झुकता है 'चंद्रेश'।


याद उसकी आती है बेतरह आज भी।। 


 



लेखिका चंद्रकांता सिवाल "चंद्रेश" 


करोल बाग (दिल्ली)


Comments
Popular posts
नही हुई कार्यवाही तो आरटीओ कार्यालय का घेराव कर करेंगे तालाबंदी पं. सचिन शर्मा (प्रदेश अध्यक्ष)
Image
मुख्य अभियंता मुकेश मित्तल एक्शन मे, भ्रष्‍ट लाइन मैन उदय प्रकाश को हटाने एवं अवर अभियंता के खिलाफ विभागीय कार्यवाही के दिये आदेश
Image
प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की छत्रछाया में अवैध फैक्ट्रियों के गढ़ गगन विहार कॉलोनी में हरेराम नामक व्यक्ति द्वारा पीतल ढलाई की अवैध फैक्ट्री का संचालन धड़ल्ले से।
Image
वरिष्ठ कवियित्री ममता शर्मा "अंचल" द्वारा रचित एक खूबसूरत रचना "जो न समझते पाक मुहब्बत" आपको सादर प्रेषित
Image
चोरों के हौसले बुलंद-भोपुरा स्थित आशीष भारत गैस एजेंसी के ऑफिस का तोड़ा ताला
Image