साइबर क्राइम सेल व कोतवाली नगर पुलिस को मिली बड़ी सफलता, फर्जी कॉल सेंटर का भंड़ाफोड़, 9 गिरफ्तार


गाजियाबाद:-साइबर क्राइम सेल व घंटाघर कोतवाली पुलिस को बड़ी सफलता हाथ लगी है। एक शिकायत पर संयुक्त कार्यवाही करते हुए फर्जी कॉल सेंटर का भंडाफोड़ करते हुए 9 आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है।घंटाघर कोतवाली में आयोजित प्रेसवार्ता में एसपी सिटी अभिषेक वर्मा ने बताया थाना लिंक रोड़ क्षेत्र की रहने वाली एक शिकायतकर्ता जिनके साथ पॉलिसी के नाम लगभग 17 लाख रुपए की ठगी हुई थी उनकी शिकायत पर पुलिस ने फर्जी कॉल सेंटर का खुलासा किया है। पकड़े गए आरोपियों ने अपने नाम आमिर पुत्र फारूख, अरूण गुलाटी पुत्र मनमोहन गुलाटी, अमित पुत्र मूजचंद शर्मा, नमित पुत्र हंसराज, शिवम त्यागी पुत्र निरंकार त्यागी, कमल शर्मा पुत्र मूलचंद शर्मा, विपिन पुत्र विजय कुमार, अनुराग त्यागी पुत्र राजकुमार त्यागी, हिमांशु पुत्र अनिल त्यागी बताए। आरोपियों के पास एक बैलेनों कार,16 मोबाईल, आधार कार्ड, 5 चैक बुक, दो कम्प्यूटर आदि सामान बरामद हुआ है।


एसपी सिटी ने बताया कि आरोपियों ने पूछताछ करने पर बताया कि कॉल सेंटर कंपनियों के पुरानें कर्मचारियों से एवं इंटरनेट से डाटा लेकर लोगों को कॉल कर लोन, पॉलिसी रिन्यू, लैप्स एवं कमीशन दिलाने के नाम पर ठगी करते हैं और ठगी का पैसा फर्जी बैंक खातों में डलवाकर कैश निकाल लेते थे। ठगी के रुपए मिलने के उपरांत जिस नंबर से कॉल करते हैं उस मोबाईल एवं सिम कार्ड को तोड़कर फेंक देते है। कॉल सेंटर के मालिक अमित और अरुण गुलाटी है। फर्जी बैंक खातों का काम शिवम त्यागी का है जो अलग-अलग व्यक्तियों के आधार कार्डों पर उनके पते बदलवाकर बैंक खाते खुलवाया करता था। प्रेसवार्ता के दौरान सीओ प्रथम कोतवाली प्रभारी संदीप सिंह, साईबर क्राइम सैल प्रभारी सुमित कुमार मौजूद रहे।

Comments
Popular posts
काव्य कॉर्नर फाउंडेशन द्वारा गणतंत्र दिवस एवं वसंत पंचमी मनाई गई धूमधाम से।
Image
वीडियो बना रहे लड़के का पहले तो छीना फोन, फिर दी झूठे मुक़दमे मे फ़साने की धमकी, अगर काम सही तो डर किस बात का।
Image
नही हुई कार्यवाही तो आरटीओ कार्यालय का घेराव कर करेंगे तालाबंदी पं. सचिन शर्मा (प्रदेश अध्यक्ष)
Image
ग़ज़ल कुंभ 2023 संपन्न
Image
जीडीए प्रवर्तन जोन 06 के वैशाली मे संचालित अनेकों अवैध निर्मित बैंक्वेट हॉल बने अधिकारियों के लिये चुनौती। बैंक्वेट हॉल संचालकों से अभियंताओं की मिलीभगत कार्यवाही मे बनती है बाधा।
Image