दिल्ली प्रांतीय रैगर पंचायत की ओर से ऐतिहासिक 2 नम्बर रैगर दिवस" की हार्दिक शुभकामनाएं*


जय ज्ञान गुरु यश दर्पण


 


गुरु ज्ञान की नौका ने,दिया सभी को तार।


धन्य-धन्य गुरु आपको, वंदन शतशतबार।।


 


अखिल भारतीय रैगर महासभा का स्वर्णिम दिवस रैगर महादिवस २नवम्बर इस दिन समाज के उन्नयन का सुंदर स्वप्न संजोया गया। 


     समाज के इस गौरवमय दिवस पर समाज के प्रत्येक व्यक्ति को सामाजिक समानता,समरसता और सामाजिक एकता का संकल्प लेना चाहिए। इस शुभ अवसर पर हमें समाज की दशा व दिशा उन्नति की ओर चिंतन व मनन करने की आवश्यकता है। और हमें अपने समाज के युग पुरुष धर्म गुरुओं के त्याग,समर्पण को नमन करते हुए,समाज की प्रगति में अपना उत्तरदायित्व,जिम्मेदारी सुंनिश्चित करनी चाहिए।


       वर्तमान व आने वाली भावी पीढ़ी के सुखद सुनहरी भविष्य एवं उन्नत शक्तिशाली समाज की नींव रखनी है। नवकीर्तिमान स्थापित करने के लिए पुरातन की नींव सुदृढ़ करने एवं अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने की प्रतिबद्धता प्रदर्शित करनी होगी। 


      गौरवमय रैगर दिवस २ नवम्बर के शुभावसर पर समाज की सेवा में सदैव समर्पित समाज चिंतक आदरणीय श्रीमान गनपतराय मोहपुरिया जी ने अपने विशेष वक्तयव्य में कहा "रैगर दिवस 2 नवम्बर क्यो ?  


     रैगर समाज के धर्मगुरू स्वामी ज्ञान स्वरूप जी महाराज ने समाज प्रति चिन्तन को सकारात्मक सोच को साकार करने हेतु स्वामी आत्मा राम लक्ष्य जी को रैगर समाज में गरीबी,अशिक्षा,बेगारी व आर्थिक शोषण के विरूद्ध को गाँव -गाँव ढाणी-ढाणी जा कर मजबूती से समाज को संगठित करके एक सूत्र में बान्धने हेतु "अखिल भारतीय रैगर महासभा " का गठन करने का निदेश दिया 


        आजादी से पूर्व संगठन बना कर इतिहास रच दिया।  प्रथम अखिल भारतीय रैगर महा सम्मेलन 2,3,4 नवम्बर 1944 मे दौसा मे सम्पन्न हुआ।    


        सबसे प्रमुख मुद्दा बेगारी,शिक्षा,सामाजिक एकता पर समाज के प्रमुख लोगो ने विचार रखे। बेगारी न करने की शपथ दिलाई गई। जुल्म के विरूद्ध संघर्ष करेंगे बेगारी नहीं करेंगे।  


    जमींदारों,जागीरदारों ने स्वामी आत्मा राम लक्ष्य जी को काठ की जेल में डाल दिया।


    "स्वामी आत्मा राम लक्ष्य" जी दलित समाज व राजनीतिक नेताओ में भी प्रथम सन्त थे जातिवाद को मुद्दा न बना कर "आर्थिक शोषण के खिलाफ़ "शिक्षा के बिना समाज शून्य के समान " है।" मेरे परम मित्र श्री खूब राम सबलानिया जी रैगर दिवस बनाने का सुझाव दिया।



गनपतराय मोहनपुरिया (समाज सेवक) 


 


रैगर चिन्तक श्री योगेन्द्र चान्दोलिया जी पूर्व महापौर ने समाज के धर्मगुरूओ के मिशन को बढ़ाने हेतु समाज मे सामाजिक एकता व जनजागरण अभियान चला रखा है।पिछले 12 साल से" स्वामी आत्मा राम लक्ष्य जी जन्मोत्सव समारोह समिति के माध्यम से समाज मे काम कर रहे।                


      "अखिल भारतीय रैगर महासभा" का सम्मेलन दिल्ली के ऐतिहासिक तालकटोरा गार्डन मे हजारो लोगो का कार्यक्रम व खाने पीने रहने का सुचारू रूप से इन्तजाम किया। रैगर समाज के सफल सम्मेलन की स्मारिका का विमोचन विश्व स्तरीय ऐतिहासिक नई दिल्ली के विज्ञान भवन मे 20 -10-2019 को श्री औम बिरला जी लोक सभा अध्यक्ष ने किया। छठा रैगर महा सम्मेलन, 21-2-2018 तत्कालीन अध्यक्ष श्री बी एल नवल जी वर्तमान अध्यक्ष डा एस के मोहनपुरिया, सम्मेलन राष्ट्रीय संयोजक श्री योगेन्द्र चान्दोलिया। मेरी रैगर समाज से प्रार्थना है कि 2 नवम्बर को रैगर दिवस पर अपने घर पर दीप जलाये। अपना और समाज का गौरव बढ़ाये। 



चन्द्रकांता सिवाल "चन्द्रेश" .


उपप्रधान(दिल्ली प्रांतीय रैगर पंचायत पंजी.)


Comments