'' चंद्रेश'' की कलम से

उजली किरण


 


जीवन 


अनगिनत 


धुंधली रेखाओं का 


आसमां, 


गहन घुप्प तिमिराकाश


करो पुरुषार्थ


कर्म रूपी बाण तान लो


दशाननी तमस को 


चीर दो


आह्वान करती हैं


आती उजली आशाओं 


की भोर किरण


मनुज 


करता नित नर्तन 


होता 


प्राण वायु संचार 


चलता 


गतिज संसार... 


 


ग़ज़ल


 


फिर मौत से मिलके आया हूँ ,


ज़िन्दगी तेरे दर पे आया हूँ।


 


अब तो पनाह दे मुझे,


सजदे में सिर भी झुकाया हूँ।


 


लौटा नहीं हूँ यूँ ही खाली ,


जीने की वजह साथ लाया हूँ।


 


ख़ता तेरी नहीं है ज़ानिब ,


अपनी ख़ता पे शरमाया हूँ।


 


आ चल हँस ले गा ले "चंद्रेश"


पेश तुझे चाँद -सितारे लाया हूँ। 


 




  • लेखिका चन्द्रकांता सिवाल "चन्द्रेश" 

  • करौल बाग (दिल्ली)


              


Comments
Popular posts
जीडीए के नए उपाध्यक्ष क्या लगा पाएंगे प्रवर्तन जोन 06 के इंदिरापुरम क्षेत्र में हो रहे अवैध निर्माणों पर अंकुश।
Image
जीडीए प्रवर्तन जोन एक (01) अभियंताओं के संरक्षण में वर्षों से संचालित हैं कई अवैध मार्केट्स।
Image
भारतीय किसान यूनियन "अंबावता" द्वारा ओला वृष्टि से हुए किसानों के नुकसान पर मुआवजा देने के लिए राष्ट्रपति के नाम दिया ज्ञापन।
Image
गाज़ियाबाद विकास प्राधिकरण के उद्यान अनुभाग अंतर्गत आने वाले सिटी फॉरेस्ट के वाहन पार्किंग स्थल पर तैनात कर्मी जीडीए द्वारा निर्धारित वाहन पार्किंग मूल्य हेतु टिकट पर अंकित मूल्य से अधिक ले रहे हैं पैसे।
Image
गाज़ियाबाद के लोनी में कोरोना के बढ़ते मामलों से पूरा क्षेत्र दहशत में