(साहित्य) एक एहसास

 


कभी जो कह ना पाऊं मैं, तो समझ लेना तुम।
कभी जो बहक जाऊं मैं, तो संभल लेना तुम।।


वक़्त भर भी दे ज़ख्मों से, झोली कभी जो मेरी
जो आकर बैठूं पास तेरे, मरहम हो जाना तुम।।


बेबसी में छूट भी जाए, साथ कभी जो तेरा।
दूँ जो कभी आवाज़, हमदम हो जाना तुम।।


ये लाज़िम है कि छोड़ दें, पत्ते भी साथ दरख्तों का।
गर छोड़ दे साख परिंदे भी, उपवन हो जाना तुम।।


थिरक उठतें हैं लब मेरे, नग़मा ए वफ़ा के नाम से।
सिल जायें कभी जो होंठ मेरे, सरगम हो जाना तुम।।


वाज़िब है के बरसे सावन, दरिया की प्यास बुझाने को
जब प्यास बुझे ना सावन से, शबनम हो जाना तुम।।
----------------------------------------



सुनील पंवार रावतसर (राज.)
स्वतंत्र युवा लेखक


Comments
Popular posts
दादर (अलवर) की बच्ची किरण कौर की पेंटिंग जापान की सबसे उत्कृष्ट पत्रिका "हिंदी की गूंज" का कवर पृष्ठ बनी।
Image
भक्त कवि श्रद्धेय रमेश उपाध्याय बाँसुरी की स्मृति में शानदार कवि सम्मेलन का किया गया आयोजन।
Image
जेई निरंजन मौर्या व लाइनमैन राजीव के इशारे पर कराई जा रही थी विद्युत चोरी, सतर्कता विभाग ने मारा छापा
Image
जीडीए प्रवर्तन जोन एक (01) अभियंताओं के संरक्षण में वर्षों से संचालित हैं कई अवैध मार्केट्स।
Image
मां वैष्णो भारत गैस एजेंसी के मालिक की मिलीभगत से हो रही है गैस धांधली
Image