हज़ल (व्यंग्य-ग़ज़ल): पंडित सुरेश नीरव


पंडित सुरेश नीरव


 


सारा माल जाली है


वो अब भी दूसरों की भीख पर करता जुगाली है-
न उसके पास आटा है,न लोटा है, न थाली है।


वो पॉकेटमार है,अपने हुनर से खूब वाक़िफ है-
कि उसने दूसरे के माल से दूकां सजा ली है। 


उसे हर हाल में मोटा लिफाफा चाहिए यारो-
लतीफ़ों को सुनाकर,साख अब उसने बना ली है।


वो पानी की जगह अब जूस पीता है,कभी व्हिस्की-
कभी टीवी का मारा था कि अब चेहरे पे लाली है।



उसे साहित्य से मतलब-गरज़ कुछ भी नहीं लेकिन-
कटिंग औ' पेस्टिंग करके जमीं सर पर उठा ली है।


वो श्रोताओं से अक्सर भीख भी तो मांग लेता है-
मदारी है वही जो शक़्ल से लगता मवाली है।


डकैती डाल दी उसने चुनिंदा चंद ग़ज़लों पर-
सुनाया मंच पर उसने वो सारा माल जाली है।


‌निराला युग के कवियों की झुकी गर्दन ये कहती है-
कि 'नीरव' आजकल मंचों ने क्या सूरत बना ली है!!



डाटला एक्सप्रेस
संपादक:राजेश्वर राय "दयानिधि"
Email-datlaexpress@gmail.com
FOR VOICE CALL-8800201131
What's app-9540276160