हज़ल (व्यंग्य-ग़ज़ल): पंडित सुरेश नीरव


पंडित सुरेश नीरव


 


सारा माल जाली है


वो अब भी दूसरों की भीख पर करता जुगाली है-
न उसके पास आटा है,न लोटा है, न थाली है।


वो पॉकेटमार है,अपने हुनर से खूब वाक़िफ है-
कि उसने दूसरे के माल से दूकां सजा ली है। 


उसे हर हाल में मोटा लिफाफा चाहिए यारो-
लतीफ़ों को सुनाकर,साख अब उसने बना ली है।


वो पानी की जगह अब जूस पीता है,कभी व्हिस्की-
कभी टीवी का मारा था कि अब चेहरे पे लाली है।



उसे साहित्य से मतलब-गरज़ कुछ भी नहीं लेकिन-
कटिंग औ' पेस्टिंग करके जमीं सर पर उठा ली है।


वो श्रोताओं से अक्सर भीख भी तो मांग लेता है-
मदारी है वही जो शक़्ल से लगता मवाली है।


डकैती डाल दी उसने चुनिंदा चंद ग़ज़लों पर-
सुनाया मंच पर उसने वो सारा माल जाली है।


‌निराला युग के कवियों की झुकी गर्दन ये कहती है-
कि 'नीरव' आजकल मंचों ने क्या सूरत बना ली है!!



डाटला एक्सप्रेस
संपादक:राजेश्वर राय "दयानिधि"
Email-datlaexpress@gmail.com
FOR VOICE CALL-8800201131
What's app-9540276160


 


Comments
Popular posts
वार्ड 20 से पार्षद विनोद कसाना द्वारा विद्युत विभाग डिवीजन चार के भ्रष्टाचार से संबंधित ज्ञापन ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा को सौंपा गया।
Image
खाद्य आपूर्ति विभाग "गाज़ियाबाद" की बड़ी लापरवाही आई सामने, सस्पेंडेड राशन डीलर अभिषेक गुप्ता द्वारा बाटा जा रहा है राशन
Image
कोयल एन्क्लेव बिजली घर पर तैनात अधिकारियों-कर्मचारियों द्वारा पार्षद विनोद कसाना से की गई बद्सलूकी
Image
जीडीए प्रवर्तन जोन 04 स्थित कवि नगर क्षेत्र में, जोन अभियंताओं की शह पर, भारी मात्रा में हो रहे हैं अवैध निर्माण
Image
लघुकथा: सुगन्ध
Image