कोयल एनक्लेव बिजली घर पर जेई निरंजन मौर्य के इशारे पर उगाही का काम कर रहे हैं लाइनमैन:


(एफआईआर का डर दिखाकर लाइनमैनों ने ठगे 5 हजार रुपए)


डाटला एक्सप्रेस संवाददाता
व्हाट्सप: 9540276160 


गाजियाबाद: साहिबाबाद क्षेत्र स्थित डिवीजन 04 राजेंद्र नगर के अंतर्गत आने वाले बिजली घर कोयल एनक्लेव पर तैनात जेई निरंजन मौर्या का डर दिखाकर खुलेआम चेकिंग के नाम पर लाइनमैन लोगों से पैसे मांग रहे हैं। मिली रिकॉर्डिंग के अनुसार पहले तो बिना किसी अधिकारी को साथ में लिए यह लोग किसी के भी घर में घुस जाते हैं। ऐसा ही एक मामला सामने आया है, जिसमें गली नंबर 9 त्रिवेणी चौक, गड्ढे वाली गली, गगन विहार के एक पीड़ित ने नाम ना छापने की शर्त पर बताया कि हमारे यहाँ दिनांक 06/09/19
रात में लगभग 10 या 10:30 बजे के आस-पास लाइनमैन उदयवीर व उसका एक अन्य साथी आए और जबरन घर में घुसकर बिजली मीटर की चेकिंग करने लगे, फिर कहने लगे कि तुमने तार में कट मार के लाइट चला रखी है तुम्हारी तो एफआईआर करानी पड़ेगी। इसके बाद ये वहां से फोटो व वीडियो बनाकर और अपना नंबर देकर चले गए। जब फोन पर पीड़ित ने लाइनमैन उदयवीर से बात की तो उसने कहा कि तुम्हारे खिलाफ एफआईआर करा देंगे जिसमें लगभग 50 से 60 हजार रुपए की पेनाल्टी लगेगी और अगर तुम्हें एफआईआर से बचनी है तो जेई मौर्या साहब को 10,000 (दस हजार) और हम दोनों को दो-तीन हजार रुपए देने होंगे वरना तुम्हारा नुकसान ज्यादा हो जाएगा और मुकदमा भी दर्ज हो जायेगा। 



उसके बाद अगले दिन 7/9/19 को बात होते-होते 05 हजार रूपये में सेटलमेंट हो गया तो पीड़ित ने तत्काल 3500= (पैंतीस सौ) रुपए लाइनमैन उदयवीर को दे दिए और 1500 (पन्द्रह सौ) रुपए शाम को देने के लिए कहा, अब इससे साफ़ जाहिर होता है कि बिजली विभाग ने अपने लाइनमैनों को खुलेआम कमाने की आजादी दे दी है। वैसे तो बिजली विभाग के अधिकारियों ने हफ्ते में 2 दिन वसूली के लिए तय किए हुए हैं परंतु ये लोग तो सातों के सात दिन चेकिंग कर रहे हैं और लोगों को तार काटने, मीटर टैंपरिंग इत्यादि के नाम पर डरा कर पैसे वसूल रहे हैं, जो अधिकारियों के वरदहस्त के बिना मुमकिन नहीं, इससे चोर-चोर मौसेरे भाई वाली कहावत सत्य होती नजर आ रही है। अब देखने वाली बात यह होगी कि काम से ज्यादा छवि के लिए अत्यधिक चिंतित योगी सरकार ऐसे भ्रष्ट जेई, लाइनमैनों व उच्च अधिकारियों के खिलाफ क्या कार्रवाई करती है या ऐसे ही ये लोग जनता को लूटते रहेंगे। गौरतलब हो कि उक्त पीड़ित द्वारा हमारे डाटला संवाददाता को दी गयी शिकायत की पूरी रिकार्डिंग का व्यौरा समाचार पत्र के कार्यालय में सबूत के तौर पर संरक्षित है।