हिन्दोस्तान का लाल


वो आज भी उमीद में बैठा है कि बेटा आयेगा 
ऐसा कैसे हो सकता है की वो हमें छोड़ कर जायेगा 
क्या उसे मालूम नहीं की वो मां आज सिसकती है 
वो पिता अंदर से घुट कर टूट जायेगा । 
धोखे से पैर पढ़ गए थे उसके ग़ैर वतन में 
न था मालूम की वो ज़ालिम, साज़िश में फंसायेगा 
आज बीते कई साल छोड़ कर इस अपने वतन को 
उम्मीद रखता हूँ तू हिन्दुस्तानी है तू वापिस आयेगा 
हो जायेगी नाकाम हरामी दुश्मनों की चालें 
तू आकर भारत का नाम बढ़ायेगा 
रहम कर ऐ बुजदिल, निहत्थे को मत डरा 
एक दिन वही तेरा खौफ बन जायेगा 
न रह पायेगा तू सकून से भी वहां पर 
नाम सुन इसका तेरा कलेजा फट जायेगा 
कर दिया जो ज़ुल्म इस पर जी भर के 
एक दिन देख सूरत देख इसकी तू दफन हो जाएगा 
जिस पर दुआ बरस रही हो उसके मुल्क की 
तू उसका कुछ भी न बिगाड़ पाएगा 
वो लाल है हिन्द का, ये सुन ले 
वापिस हिन्दोस्तान ही आएगा ।।
-----------------------------------------------



रचनाकार-  दिलाराम भारद्वाज 'दिल' 
आनी, कुल्लू (हि. प्र.) #8278819997
प्रस्तुति: डाटला एक्सप्रेस 16/08/2019


 


डाटला एक्सप्रेस
संपादक:राजेश्वर राय "दयानिधि"
Email-datlaexpress@gmail.com
FOR VOICE CALL-8800201131
What's app-9540276160


Comments
Popular posts
दादर (अलवर) की बच्ची किरण कौर की पेंटिंग जापान की सबसे उत्कृष्ट पत्रिका "हिंदी की गूंज" का कवर पृष्ठ बनी।
Image
भक्त कवि श्रद्धेय रमेश उपाध्याय बाँसुरी की स्मृति में शानदार कवि सम्मेलन का किया गया आयोजन।
Image
जेई निरंजन मौर्या व लाइनमैन राजीव के इशारे पर कराई जा रही थी विद्युत चोरी, सतर्कता विभाग ने मारा छापा
Image
जीडीए प्रवर्तन जोन एक (01) अभियंताओं के संरक्षण में वर्षों से संचालित हैं कई अवैध मार्केट्स।
Image
मां वैष्णो भारत गैस एजेंसी के मालिक की मिलीभगत से हो रही है गैस धांधली
Image