मैं भोली भाली जनता हूँ

(साहित्य)



मैं भोली भाली जनता हूँ
युग-युग से छली ही जाती हूँ
ख़ुद अपने बन्धन में जकड़ी
किस आस में जीती जाती हूँ ?


मुझे हर प्रचार भरमाता है
हर नेता मुझे लुभाता है
हर बहकावे में फँस फँस कर
क्या सच है जान न पाती हूँ !


इस कोने से उस कोने तक
जीवन की इति श्री होने तक
है कौन सही और कौन ग़लत
यह भेद समझ न पाती हूँ !


न भूत में थी सन्तुष्ट कभी
न वर्तमान में तृप्त हुयी
होगा भविष्य सुखमय शायद
इस भ्रम में जीती जाती हूँ !


इक अंश हमारा हिन्दू है
दूजा मुस्लिम कहलाता है
कुछ सिख- इसाई हैं मुझमें
यह कह कर बाँटा जाता है !


वे हमें लड़ाकर धर्म भेद पर
अपने जाल बिछाते हैं
हम आ उनके बहकावे में
मानवता भूले जाते हैं !


मुझको इस छल प्रपंच पर
अब थोड़ा रोष भी आता है
यूँ सह कर सारे अतिक्रमण
कैसे चुप बैठा जाता है ?


संभवत: वह दिन दूर नहीं
जब बाँध सब्र का टूटेगा
अपने अधिकारों की ख़ातिर
हमको लड़ना आ जायेगा !


तुम तब तक मनमानी कर लो
हम जब तक निष्क्रिय बैठे हैं
लेकिन कब तक ? आख़िर तेरा
यह पाप कुंभ भर जायेगा !


फिर छीन सभी लोभी भ्रष्टों से
हम अपना हक़ ले लेंगे
जब लोकतंत्र की परिभाषा
हम सही रूप में समझेंगे !


 



उषा लाल/प्रयाग


 


प्रस्तुति 


डाटला एक्सप्रेस
संपादक:राजेश्वर राय "दयानिधि"
Email-datlaexpress@gmail.com
FOR VOICE CALL-8800201131
What's app-9540276160


Comments
Popular posts
दादर (अलवर) की बच्ची किरण कौर की पेंटिंग जापान की सबसे उत्कृष्ट पत्रिका "हिंदी की गूंज" का कवर पृष्ठ बनी।
Image
भक्त कवि श्रद्धेय रमेश उपाध्याय बाँसुरी की स्मृति में शानदार कवि सम्मेलन का किया गया आयोजन।
Image
जेई निरंजन मौर्या व लाइनमैन राजीव के इशारे पर कराई जा रही थी विद्युत चोरी, सतर्कता विभाग ने मारा छापा
Image
जीडीए प्रवर्तन जोन एक (01) अभियंताओं के संरक्षण में वर्षों से संचालित हैं कई अवैध मार्केट्स।
Image
मां वैष्णो भारत गैस एजेंसी के मालिक की मिलीभगत से हो रही है गैस धांधली
Image