होली रंगने आती है...


होली रंगने आती है... 


बिना प्यार के जीवन के,
सारे रंग हैं फीके,
होली सबको प्रेम-रंग में
रंगने आती है।
हर उदास चेहरे पर,
खिल जाती हैं मुस्कानें ।
अधरों पर लहराती हैं,
मीठी-मीठी तानें।
मन की सूनी बगिया में,
बहार छा जाती है।
जन मानस के तन-मन में,
उल्लास उमड़ता है।
हरे-लाल-पीले अबीर का,
मेघ घुमड़ता है।
नर्तन करते पांवों में,
थिरकन लहराती है।
भरतनाट्यम,कथक,कुचिपुड़ी,
करे देह नर्तन
सिर से पांवों की मुद्रा का,
मनमोहक कीर्तन ।
रचे गीत-गोविंद,खुशी,
तालियाँ बजाती हैं,
तुम हो इतना दूर,
तुम्हारी याद सताती है।।


 



प्रतिभा


Comments
Popular posts
काव्य कॉर्नर फाउंडेशन द्वारा गणतंत्र दिवस एवं वसंत पंचमी मनाई गई धूमधाम से।
Image
वीडियो बना रहे लड़के का पहले तो छीना फोन, फिर दी झूठे मुक़दमे मे फ़साने की धमकी, अगर काम सही तो डर किस बात का।
Image
नही हुई कार्यवाही तो आरटीओ कार्यालय का घेराव कर करेंगे तालाबंदी पं. सचिन शर्मा (प्रदेश अध्यक्ष)
Image
ग़ज़ल कुंभ 2023 संपन्न
Image
जीडीए प्रवर्तन जोन 06 के वैशाली मे संचालित अनेकों अवैध निर्मित बैंक्वेट हॉल बने अधिकारियों के लिये चुनौती। बैंक्वेट हॉल संचालकों से अभियंताओं की मिलीभगत कार्यवाही मे बनती है बाधा।
Image