होली रंगने आती है...


होली रंगने आती है... 


बिना प्यार के जीवन के,
सारे रंग हैं फीके,
होली सबको प्रेम-रंग में
रंगने आती है।
हर उदास चेहरे पर,
खिल जाती हैं मुस्कानें ।
अधरों पर लहराती हैं,
मीठी-मीठी तानें।
मन की सूनी बगिया में,
बहार छा जाती है।
जन मानस के तन-मन में,
उल्लास उमड़ता है।
हरे-लाल-पीले अबीर का,
मेघ घुमड़ता है।
नर्तन करते पांवों में,
थिरकन लहराती है।
भरतनाट्यम,कथक,कुचिपुड़ी,
करे देह नर्तन
सिर से पांवों की मुद्रा का,
मनमोहक कीर्तन ।
रचे गीत-गोविंद,खुशी,
तालियाँ बजाती हैं,
तुम हो इतना दूर,
तुम्हारी याद सताती है।।


 



प्रतिभा


Comments
Popular posts
पर्पल पेन समूह द्वारा 'अनहद' काव्य गोष्ठी एवं पुस्तक लोकार्पण का भव्य आयोजन
Image
भ्रष्‍ट लाइनमैन उदय प्रकाश को एक बार फिर बचाने मे कामयाब दिख रहे हैं जांच अधिकारी।
Image
चन्द्र फ़िल्म प्रोडक्शन की दूसरी फ़िल्म बावळती के पोस्टर का विमोचन तोदी गार्डन में अध्यक्ष पवन महेश्वरी भजपा, सुल्तान सिंह राठौड़, पवन तोदी ने किया।
Image
काशी भूमि सेवा संस्था के कार्यकारी निदेशक श्री भूपेंद्र राय ने रोशन कुमार राय द्वारा लिये गये साक्षात्कार मे कहा-समाज सेवा और जनहित ही है मेरा पहला लक्ष्य
Image
पिलखुवा में राष्ट्रीय ग़जलकार सम्मेलन सम्पन्न
Image