होली रंगने आती है...


होली रंगने आती है... 


बिना प्यार के जीवन के,
सारे रंग हैं फीके,
होली सबको प्रेम-रंग में
रंगने आती है।
हर उदास चेहरे पर,
खिल जाती हैं मुस्कानें ।
अधरों पर लहराती हैं,
मीठी-मीठी तानें।
मन की सूनी बगिया में,
बहार छा जाती है।
जन मानस के तन-मन में,
उल्लास उमड़ता है।
हरे-लाल-पीले अबीर का,
मेघ घुमड़ता है।
नर्तन करते पांवों में,
थिरकन लहराती है।
भरतनाट्यम,कथक,कुचिपुड़ी,
करे देह नर्तन
सिर से पांवों की मुद्रा का,
मनमोहक कीर्तन ।
रचे गीत-गोविंद,खुशी,
तालियाँ बजाती हैं,
तुम हो इतना दूर,
तुम्हारी याद सताती है।।


 



प्रतिभा


Comments
Popular posts
जीडीए के नए उपाध्यक्ष क्या लगा पाएंगे प्रवर्तन जोन 06 के इंदिरापुरम क्षेत्र में हो रहे अवैध निर्माणों पर अंकुश।
Image
जीडीए प्रवर्तन जोन एक (01) अभियंताओं के संरक्षण में वर्षों से संचालित हैं कई अवैध मार्केट्स।
Image
भारतीय किसान यूनियन "अंबावता" द्वारा ओला वृष्टि से हुए किसानों के नुकसान पर मुआवजा देने के लिए राष्ट्रपति के नाम दिया ज्ञापन।
Image
गाज़ियाबाद विकास प्राधिकरण के उद्यान अनुभाग अंतर्गत आने वाले सिटी फॉरेस्ट के वाहन पार्किंग स्थल पर तैनात कर्मी जीडीए द्वारा निर्धारित वाहन पार्किंग मूल्य हेतु टिकट पर अंकित मूल्य से अधिक ले रहे हैं पैसे।
Image
गाज़ियाबाद के लोनी में कोरोना के बढ़ते मामलों से पूरा क्षेत्र दहशत में