कुन्दन उपाध्याय का गीत "मदिरा पान की मस्ती, गृहिणी की उजड़ी गृहस्थी"

"मदिरा पान की मस्ती, गृहिणी की उजड़ी गृहस्थी"
---------------------------------------------------------



यह मदिरा की लत मस्ती ने,
पति के जीवन को है जकड़ा!
पत्नी के दिल में दर्द बढ़ा,
उनमादी प्याला क्यों पकड़ा!


मदिरालय में बिकती मस्ती!
मिट जाती जीवन की हस्ती !
पी मदिरा गिरा बेहोशी में!
मद मस्त मगन मदहोशी में!
नित गृहकलेश की चिंता से ,
मुरझाया गृहिणी का मुखड़ा!
यह मदिरा की लत मस्ती ने ,
पति के जीवन को है जकड़ा!


वह सदा नशा में लिप्त रहा!
हर कर्तव्यों से रिक्त रहा!
अर्थ विवेक सब व्यर्थ गया!
तन मन शक्ति,पुरूषार्थ गया!
जो बात-बात पर लड़ता है,
आए दिन करता है लफड़ा!
यह मदिरा की लत मस्ती ने,
पति के जीवन को है जकड़ा!


चख भ्रमित हुई मुर्छित काया!
फिर लोटा पोटा चिल्लाया
जग जड़ चेतन से शून्य हुआ!
वह मृतक पिण्डिका तुल्य हुआ!
आँखों से आंसू झर झर बह,
रो रो कर सुनाती बस दुखड़ा!
यह मदिरा की लत मस्ती ने,
पति के जीवन को है जकड़ा!
_________________________



रचनाकार: कुंदन उपाध्याय 'जयहिंद'
मोबाइल: #8076277164
प्रस्तुति: डाटला एक्सप्रेस 8/2/2019


Comments
Popular posts
मशहूर कवि डॉ विजय पंडित जी द्वारा रचित रचना "सुरक्षित होली प्रदूषणमुक्त होली"
Image
भक्त कवि श्रद्धेय रमेश उपाध्याय बाँसुरी की स्मृति में शानदार कवि सम्मेलन का किया गया आयोजन।
Image
भारतीय किसान यूनियन "अंबावता" द्वारा ओला वृष्टि से हुए किसानों के नुकसान पर मुआवजा देने के लिए राष्ट्रपति के नाम दिया ज्ञापन।
Image
अलवर राजस्थान की सुप्रसिद्ध एवं वरिष्ठ कवि ममता शर्मा 'अंचल' द्वारा रचित रचना "बंजारे दिल का"
Image
प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की छत्रछाया में अवैध फैक्ट्रियों के गढ़ गगन विहार कॉलोनी में हरेराम नामक व्यक्ति द्वारा पीतल ढलाई की अवैध फैक्ट्री का संचालन धड़ल्ले से।
Image