डाटला एक्सप्रेस के साहित्यिक परिशिष्ट 'साहित्य सेतु' में प्रस्तुत है वाराणसी निवासी शिक्षाविद् एवं मशहूर कवयित्री रजनी अग्रवाल 'वाग्देवी रत्ना' की शहीदी दिवस पर एक मार्मिक रचना 'सिंहासन'

'सिंहासन'
-------------


लिखें इतिहास नया हम
सत्ता के सिंहासन का,
अँधियारों से लड़ने वाले
सरकारी निर्वाचन का।


भ्रष्टाचार हुकूमत करता
मेहनतक़श इंसानों पर,
सुप्त व्यवस्था गूँगी-बहरी
चुने इमारत लाशों पर।।


निर्धनता में दबी हुई हैं
बेबस चीख गरीबों की,
बुद्धिजीवियों को दिखती है
केवल पीर अमीरों की।


मासूमों की लाचारी को
लिख दें अब अंगारों से,
वो परिवर्तन दिखला देंगे
धधक उठे जो नारों से।


घर के जयचंदों को मिलकर
ईंटों में चुनवाएँगे,
अपराधी को बर्बरता से
नैतिकता सिखलाएँगे।


क़लमकार का फ़र्ज़ निभाकर
अंतस अलख जगाएँगे,
गद्दारों के नाम चयन कर
शिलालेख लिखवाएँगे।
__________________________

प्रस्तुति: डाटला एक्सप्रेस 31/01/2019
#9540276160 व्हाट्सप



डॉ. रजनी अग्रवाल 'वाग्देवी रत्ना'
वाराणसी (उ.प्र.)भारत


Comments
Popular posts
दादर (अलवर) की बच्ची किरण कौर की पेंटिंग जापान की सबसे उत्कृष्ट पत्रिका "हिंदी की गूंज" का कवर पृष्ठ बनी।
Image
भक्त कवि श्रद्धेय रमेश उपाध्याय बाँसुरी की स्मृति में शानदार कवि सम्मेलन का किया गया आयोजन।
Image
जेई निरंजन मौर्या व लाइनमैन राजीव के इशारे पर कराई जा रही थी विद्युत चोरी, सतर्कता विभाग ने मारा छापा
Image
जीडीए प्रवर्तन जोन एक (01) अभियंताओं के संरक्षण में वर्षों से संचालित हैं कई अवैध मार्केट्स।
Image
मां वैष्णो भारत गैस एजेंसी के मालिक की मिलीभगत से हो रही है गैस धांधली
Image