डाटला एक्सप्रेस के 'साहित्य सेतु' परिशिष्ट में पेश है सुनील पाण्डेय की एक चर्चित ग़ज़ल _____ साँसें

साँसें
--------
जिंदगी जीने की पुरज़ोर लगन हैं साँसें,
किसी अल्फाज़ के हर लफ़्ज़ की फ़न हैं साँसें।


रेत की आँख जो शबनम-ए-ग़म बहा न सकीं,
उन्हीं बे - नूर निगाहों की जलन हैं साँसें।


तू मेरे ज़ख़्म से बेकार छेड़छाड़ न कर,
राज बनकर तेरी, सीने में दफ़न है साँसें।


रूह महसूस करूँ मैं , न तेरा जिस्म सही,
तेरे दामन, तेरी ख़ुशबू की चुभन हैं साँसें।


वक्त की बेरुख़ी ने जिनके पंख काट दिए,
उन परिंदों की आसमां में उड़न हैं साँसें।


हिज्र की रात में ग़म अपना और तेरा ख़याल,
तुझसे ख़ामोश गुफ़्तगू की सुखन है साँसें।


साँस-दर-साँस मुख़्तसर हयात होती है,
लोग कहते हैं कि पल-पल की कफ़न हैं साँसें।
-------------------------------------
सुनील पांडेय
ग्राम एवं पोस्ट – रामनगर (सुइथाकलां)
जनपद - जौनपुर (उ० प्र०)
मोबाइल: 8115405665


Comments
Popular posts
20 साल में पांच हत्या: साजिश ऐसी कि परिजन भी खा गए गच्चा, पांचवीं हत्या में जरा सी चूक से उजागर हुई करतूत
Image
Delhi Shootout: दिल्ली की रोहिणी कोर्ट में गैंगस्टर की हत्या, पुलिस ने दोनों हमलावर भी मार गिराए
Image
जेएमटी जितेंद्र कुमार ने उगाही सिंडिकेट चलाने हेतु रखे हुए है दो प्राइवेट लड़के
Image
शालीमार चौकी क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले एक्सटेंशन वन रॉयल प्लाजा बिल्डिंग के ग्राउंड फ्लोर पर चल रहा है देह व्यापार का धंधा
Image
"चन्द्र फ़िल्म प्रोडक्शन" बैनर तले बनी मायड़ भाषा की फिल्म "बावळती" के पहले पोस्टर का विमोचन चूरू के ऐतिहासिक नगर श्री सभागार में संपन्न।
Image