अलवर अपने दम पर जीना "ममता शर्मा, अलवर राजस्थान"

डाटला एक्सप्रेस संवाददाता


अलवर के कलम संसार

का तीव्र उद्दाम गति से 

उभरा एक प्रसिद्ध नाम

ममता शर्मा *अंचल*। 

हृदय से रचना धर्मी, 

साहित्य प्रेमी , भाव 

जगत में विहार करना। 

कर्म से एक कुशल शिक्षिका जिनके जीवन का ध्येय अपने हृत के प्रेमामृत को बच्चों में उँड़ेल कर उन्हें इतना अपनत्व प्रदान करना कि वे भी हृदय से उन्हें अपना लें और इस परस्पर आदान प्रदान में बच्चों को *अपने दम पर जीना* सहज सिखला दें ; जैसा स्वयं उन्होंने अपने जीवन में किया और कर रही हैं। इनके इस कार्य के लिए विभिन्न संस्थाओं ने समय-समय पर उन्हें अपने पुरस्कारों से नवाजा है।2018 में प्रयागराज में पश्चिम बंगाल के महामहिम केशरी नाथ त्रिपाठी जी द्वारा "महादेवी वर्मा सम्मान" से सम्मानित किया गया। 2019 में जयपुर के राजभवन में इनकी प्रथम पुस्तक "गज़ल संग्रह" "ओ...मेरे मन"का विमोचन महामहिम कल्याण सिंह जी द्वारा किया गया। 

राजस्थान साहित्य अकादमी उदयपुर द्वारा इनके काव्य संग्रह "बारिश... उम्मीदों की" को हाल ही 2023 में प्रकाशित किया गया। साहित्य मंडल नाथद्वारा द्वारा इन्हें "हिंदी काव्य मनीषी" की उपाधि से विभूषित किया गया। फरवरी 2023 में इन्हें नेपाल में सम्मानित किया गया।ये बड़े हर्ष की बात है कि 

5 नवम्बर 2023 को "विक्रमशिला हिंदी विद्यापीठ "भागलपुर से "विधावाचस्पति"की उपाधि से ममता शर्मा "अंचल"को सम्मानित किया गया।



ममता शर्मा "अंचल"

Comments