वरिष्ठ कवियित्री ममता शर्मा "अंचल" द्वारा रचित एक खूबसूरत रचना "जो न समझते पाक मुहब्बत" आपको सादर प्रेषित

 डाटला एक्सप्रेस की प्रस्तुति


जो न समझते पाक मुहब्बत

उन खातिर है खाक मुहब्बत

जिन्हे तजुर्बा नहीं इश्क का

उनको रहती ताक मुहब्बत

नफ़ा खोजते हैं जो इसमें

उनकी है चालाक मुहब्बत

जो खुद में उलझे रहते हैं

होते देख अवाक मुहब्बत

करते हैं जो सच्चे दिल से

जग में उनकी धाक मुहब्ब

जिसने इसको समझा" अंचल"

करते वो बेबाक मुहब्बत।।।।



ममता शर्मा "अंचल"

अलवर (राजस्थान)लिखने की तिथि:-28.9.2023

Comments