कविता.....मुझको याद है

प्रस्तुति डाटला एक्सप्रेस 


वह  पुराना गीत  मुझको  याद है

जो रहा  दिल  मे सदा  आबाद है

देख मन को फ़िक्र में कहता रहा

बे वजह क्यों पालता अवसाद है

हो रहे खुश वो  पराजित जानकर

मीत  यह  उनका  निरा  उन्माद है

डर तुझे है किस गुलामी का बता

ग़म  न  कर  मन  बावरे आजाद है

पीर भी उम्मीद  की  दुश्मन  नहीं

सच समझ सुख की यही बुनियाद है

गीत समझाता मुझे  "अंचल" यही

जय  पराजय  जिंदगी  की खाद है

ममता शर्मा "अंचल"

अलवर (राजस्थान)7220004040

Comments
Popular posts
न्यायाधीश रेखा शर्मा की उपस्थिति में असंध बार एसोसिएशन का शपथ ग्रहण समारोह सम्पन्न:
Image
लाइनमैन उदयवीर को बिजली घर से हटाने को तैयार नहीं है अधिकारी 
Image
ग्रुप हाउसिंग सोसाइटी एमएसएस ब्लिस होम्स (MSS BLISS Homes) में अवैध निर्माण व एनजीटी नियमों का उल्लंघन
Image
मुख्य अभियंता मुकेश मित्तल एक्शन मे, भ्रष्‍ट लाइन मैन उदय प्रकाश को हटाने एवं अवर अभियंता के खिलाफ विभागीय कार्यवाही के दिये आदेश
Image
शालीमार गार्डन एक्सटेंशन 2( डेढ़ सौ फुटा रोड) को हॉटस्पॉट होने के कारण किया गया बंद 
Image