कविता.....मुझको याद है

प्रस्तुति डाटला एक्सप्रेस 


वह  पुराना गीत  मुझको  याद है

जो रहा  दिल  मे सदा  आबाद है

देख मन को फ़िक्र में कहता रहा

बे वजह क्यों पालता अवसाद है

हो रहे खुश वो  पराजित जानकर

मीत  यह  उनका  निरा  उन्माद है

डर तुझे है किस गुलामी का बता

ग़म  न  कर  मन  बावरे आजाद है

पीर भी उम्मीद  की  दुश्मन  नहीं

सच समझ सुख की यही बुनियाद है

गीत समझाता मुझे  "अंचल" यही

जय  पराजय  जिंदगी  की खाद है

ममता शर्मा "अंचल"

अलवर (राजस्थान)7220004040

Comments
Popular posts
जीडीए के नए उपाध्यक्ष क्या लगा पाएंगे प्रवर्तन जोन 06 के इंदिरापुरम क्षेत्र में हो रहे अवैध निर्माणों पर अंकुश।
Image
जीडीए प्रवर्तन जोन एक (01) अभियंताओं के संरक्षण में वर्षों से संचालित हैं कई अवैध मार्केट्स।
Image
भारतीय किसान यूनियन "अंबावता" द्वारा ओला वृष्टि से हुए किसानों के नुकसान पर मुआवजा देने के लिए राष्ट्रपति के नाम दिया ज्ञापन।
Image
गाज़ियाबाद विकास प्राधिकरण के उद्यान अनुभाग अंतर्गत आने वाले सिटी फॉरेस्ट के वाहन पार्किंग स्थल पर तैनात कर्मी जीडीए द्वारा निर्धारित वाहन पार्किंग मूल्य हेतु टिकट पर अंकित मूल्य से अधिक ले रहे हैं पैसे।
Image
गाज़ियाबाद के लोनी में कोरोना के बढ़ते मामलों से पूरा क्षेत्र दहशत में