थाना नंद नगरी के बीट नंबर सात पर तैनात बीट कांस्टेबल प्रदीप, मनीष व आदेश के संरक्षण में चल रहा है गांजे और सट्टे का कारोबार


डाटला एक्सप्रेस संवाददाता

दिल्ली के थाना नंद नगरी क्षेत्र अंतर्गत आने वाले बीट नंबर सात कोड़ी कॉलोनी के पीछे खेतों में, बीट कांस्टेबलों की मिलीभगत से खुलेआम अवैध शराब,सट्टेबाजी व गांजे का कारोबार धड़ल्ले से चल रहा है। यहां एक व्यक्ति अपने हाथ में गांजे की पुड़ियों से भरी थैली लेकर दिन भर बैठा रहता है इसके अलावा यहां सट्टेबाजी एवं देर रात शराब बिक्री का गोरख धंधा भी काफ़ी लंबे और यह किसी से छुपा नहीं क्यूंकि यह क्षेत्र इन सब गोरख धंधों के चलते काफ़ी बदनाम है।

इन अवैध धंधों को करने वाले लोगों की संपूर्ण जानकरी उनके स्थान सहित बीट कांस्टेबल प्रदीप, मनीष, आदेश को पता होने के बावजूद वह इनके विरुध्द कोई कार्यवाही नहीं करते या यूं कहें कि इन्हीं के संरक्षण में यह सारे अवैध कारोबार इस क्षेत्र में बोहोत लंबे अर्से से फलफूल रहे हैं। आज इस क्षेत्र का हाल कुछ ऐसा हो गया है कि कोई सज्जन व्यक्ति इस ओर जाने से भी कतराता है क्यूंकि इन धंधों को कर रहे व्यक्तियों का मनोबल इतना बढा हुआ है कि यह लोग पुलिस के साथ भी मारपीट करने से पीछे नहीं हटते तो भला किसी आम आदमी की क्या मजाल की इन ख़तरनाक लोगों के सामने अपना मुँह भी खोल सके। 

अभी कुछ दिन पहले दबिश देने गए सब इंस्पेक्टर सचिन डांगी, हेड कांस्टेबल देवेंद्र कुमार व एक अन्य कॉन्स्टेबल को अवैध धंधा चला रहे लोगों ने दौड़ा-दौड़ा कर पीटा और पीट-पीटकर अधमरा कर दिया व सब इंस्पेक्टर की पिस्टल छीन ली। जिसके बाद सूचना पर तुरंत पहुंचे अन्य पुलिसकर्मियों ने सब इंस्पेक्टर सहित दोनों पुलिसकर्मियों को तत्काल अस्पताल में भर्ती कराया, जहां कई दिनों तक तीनों पुलिस कर्मियों की हालत गंभीर बनी रही। पिटाई कि इस घटना के बाद जब यह पूरा मामला डीसीपी समेत कई और अधिकारियों के संज्ञान मे आया तो उन्होंने अवैध धंधे करने वालों व इस पूरे प्रकरण के मास्टरमाइंड मुमताज के लड़के व मुमताज की बहन के लड़के को पकड़ कर जेल भेज दिया। उसके बाद उनके अन्य साथियों को भी चुन- चुन कर जेल भेजा गया।तब कहीं जाकर मामला थोड़ा शांत हुआ।इस पूरे घटनाक्रम के बाद बाद बीट कांस्टेबलों को सख्त हिदायत दी गई कि अगर थाना नंद नगरी क्षेत्र में कहीं भी अवैध काम चलता पाया गया तो उनके खिलाफ सख्त से सख्त कार्यवाही की जाएगी। बावजूद इसके कुछ दिन बीत जाने के बाद बीट नंबर 7 कोड़ी कॉलोनी के पीछे खेतों में खुलेआम गांजा, शराब व सट्टेबाज़ी का अवैध कारोबार फ़िर से फलने-फूलने लगा है। जिसमें कहीं न कहीं मुख्य भूमिका इन्हीं तीन बिट कांस्टेबल्स की है। 

यह बहुत ही शर्मनाक और दुःखद है कि जब पूर्व में खुद पुलिस के साथ ऐसी बड़ी घटना हो गई, फ़िर भी इन अवैध कारोबारियों का मनोबल आखिर किसकी वज़ह से इतना ज़्यादा बढ़ा हुआ है कि यह अपने कुकर्मों से बाज नहीं आ रहे। मामले की शिकायत दिल्ली पुलिस कमिश्नर व जोनल अधिकारियों से की जा रही है।

Comments