ढूँढ़ लेते हैं

(41)


कोई ग़म हो,खुशी हो या कोई हो दौर दुनिया का-
मगर हम पीने वाले सौ  बहाने ढूँढ़ लेते हैं.


हमारे सायों से बेशक़ हर इक परहेज़ करता हो-
मगर हम महफिलों खातिर ठिकाने ढूँढ़ लेते हैं। 


ज़माने में जहां देखो वहीं ग़म के ही मंज़र हैं-
ग़मों में भी खुशी के हम तराने ढूँढ़ लेते हैं। 


बचाने को बखेड़े हम बहुत बच-बच के चलते हैं-
बचें कितना मगर, हमको फ़साने ढूँढ़ लेते हैं। 


बहुत पोशीदा ढंग से जब नई दुनिया बसाते हैं-
तो वो मनहूस से, गुज़रे ज़माने ढूँढ़ लेते है। 


जवानी लाख पर्दों में कहीं कोई छुपा डाले-
मगर कैसे भी करके हम सयाने ढूँढ़ लेते हैं। 


जिन्हें हम छोड़ आये थे नये रिश्तों की चाहत में-
वही खोये हुए हमको पुराने ढूँढ़ लेते हैं। 


बेचारा 'राज' जिन लम्हों से बचके दूर चलता है-
उसे यादों के वो रंगी ख़ज़ाने ढूँढ़ लेते हैं।
_________________________________
राज राजेश्वर/दिल्ली/8800201131
rajeshwar.azm@gmail.com


________________________________



राज राजेश्वर/दिल्ली/8800201131
rajeshwar.azm@gmail.com
प्रस्तुति: डाटला एक्सप्रेस


Comments
Popular posts
मुख्य अभियंता मुकेश मित्तल एक्शन मे, भ्रष्‍ट लाइन मैन उदय प्रकाश को हटाने एवं अवर अभियंता के खिलाफ विभागीय कार्यवाही के दिये आदेश
Image
साहित्य के हिमालय से प्रवाहित दुग्ध धवल नदी-सी हैं, डॉ प्रभा पंत।
Image
दादर (अलवर) की बच्ची किरण कौर की पेंटिंग जापान की सबसे उत्कृष्ट पत्रिका "हिंदी की गूंज" का कवर पृष्ठ बनी।
Image
भक्त कवि श्रद्धेय रमेश उपाध्याय बाँसुरी की स्मृति में शानदार कवि सम्मेलन का किया गया आयोजन।
Image
प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की छत्रछाया में अवैध फैक्ट्रियों के गढ़ गगन विहार कॉलोनी में हरेराम नामक व्यक्ति द्वारा पीतल ढलाई की अवैध फैक्ट्री का संचालन धड़ल्ले से।
Image