विनीता धाकड़ की कविता "बेटी हिन्दुस्तान की"

विनीता धाकड़ की कविता "बेटी हिन्दुस्तान की"
----------------------------------------------


विदेशी हवाओं में पली हूं, संस्कारों पर अड़ी हूं।
भारत की धरा पर पली हूं, इसे चूम कर ही बढ़ी हूं।


सोना नहीं मणि हूं, बूटी नहीं जड़ी हूं।
खुद में ही मैं बड़ी हूं, भारत की जो लली हूं।


संस्कृतियों मैं सनी हूं, संस्कारों में मढ़ी हूं।
खंडहर नहीं जो पड़ी हूं, मीनार बनकर खड़ी हूं।।


सागर नहीं नदी हूं, पहाड़ों से लड़ बढ़ी हूं।
कैसे अकणु हरि हूं, फल फूलों से लदी हूं।।


गँवार नहीं पढ़ी हूं, परिवार के संग चली हूं।
हीरोइन से भी बड़ी हूं, पापा की जो परी हूं।
____________________________



नाम - विनीता धाकड़
ग्राम-बरहा कलां, तहसील-बरेली
जिला-रायसेन (मध्य प्रदेश)
मोबाइल नंबर: 95_84_220_451
प्रस्तुति: डाटला एक्सप्रेस 07/02/2019


Comments
Popular posts
मुख्य अभियंता मुकेश मित्तल एक्शन मे, भ्रष्‍ट लाइन मैन उदय प्रकाश को हटाने एवं अवर अभियंता के खिलाफ विभागीय कार्यवाही के दिये आदेश
Image
साहित्य के हिमालय से प्रवाहित दुग्ध धवल नदी-सी हैं, डॉ प्रभा पंत।
Image
दादर (अलवर) की बच्ची किरण कौर की पेंटिंग जापान की सबसे उत्कृष्ट पत्रिका "हिंदी की गूंज" का कवर पृष्ठ बनी।
Image
भक्त कवि श्रद्धेय रमेश उपाध्याय बाँसुरी की स्मृति में शानदार कवि सम्मेलन का किया गया आयोजन।
Image
प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की छत्रछाया में अवैध फैक्ट्रियों के गढ़ गगन विहार कॉलोनी में हरेराम नामक व्यक्ति द्वारा पीतल ढलाई की अवैध फैक्ट्री का संचालन धड़ल्ले से।
Image