अरविंद उनियाल 'अनजान' की कविता 'सियासत'

प्रस्तुति डाटला एक्सप्रेस 


सियासत



अमन औ चैन की बस्ती में दहशत बाँट देती है ।
हमें हिन्दू मुसलमाँ में सियासत बाँट देती है ।


सियासी रोटियों को सेकने के वास्ते कुर्सी -
मुहब्बत चाहने वालों को नफरत बाँट देती है ।


बिखर जाते हैं रिश्ते स्वार्थ की दीवार उगने पर-
कलह परिवार, आँगन, खिड़कियाँ, छत बाँट देती है ।


तरसती हैं कभी इक बूंद बारिश के लिये फसलें
कभी बरसात छप्पर को मुसीबत बांट देती है ।


हरिक रिश्ते पे हावी दिख रहा है आजकल पैसा -
सगे भाई को भाई से वसीयत बाँट देती है ।


हमेशा लूटती है आम जनता को मगर सत्ता -
चुनावी साल में थोड़ी सी राहत बाँट देती है ।


सड़ाकर कैद में 'अनजान' लाखों बेगुनाहों को-
अदालत धनकुबेरों को जमानत बाँट देती है ।



_________________________
कवि परिचय-
अरविन्द उनियाल 'अनजान'
जन्म तिथि- 28-06-1974
ई मेल-arvindiniyall@gmail. com
दूरभाष-9410912290
शिक्षा- स्नातकोत्तर
संप्रति- ग्राम विकास अधिकारी के पद पर टिहरी जिले, उत्तराखंड में कार्यरत
स्थाई पता- श्रीनगर गढ़वाल, उत्तराखंड ।


Comments
Popular posts
मुख्य अभियंता मुकेश मित्तल एक्शन मे, भ्रष्‍ट लाइन मैन उदय प्रकाश को हटाने एवं अवर अभियंता के खिलाफ विभागीय कार्यवाही के दिये आदेश
Image
साहित्य के हिमालय से प्रवाहित दुग्ध धवल नदी-सी हैं, डॉ प्रभा पंत।
Image
दादर (अलवर) की बच्ची किरण कौर की पेंटिंग जापान की सबसे उत्कृष्ट पत्रिका "हिंदी की गूंज" का कवर पृष्ठ बनी।
Image
भक्त कवि श्रद्धेय रमेश उपाध्याय बाँसुरी की स्मृति में शानदार कवि सम्मेलन का किया गया आयोजन।
Image
प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की छत्रछाया में अवैध फैक्ट्रियों के गढ़ गगन विहार कॉलोनी में हरेराम नामक व्यक्ति द्वारा पीतल ढलाई की अवैध फैक्ट्री का संचालन धड़ल्ले से।
Image