प्रस्तुत है आकाश महेशपुरी द्वारा लिखी गई उनकी प्रचलित रचना ''पाँच साल सिसकाने वालों''


 


"पाँच साल सिसकाने वालों"
रचनाकार: आकाश महेशपुरी
---------------------------------------


जनता को तड़पाने वालों
आना फिर से वोट मांगने
पाँच साल सिसकाने वालों


फेंक रहे थे इतना ज्यादा
कहाँ गया वह तेरा वादा
अच्छे दिन का स्वप्न दिखाकर
वोट सभी लोगों का पाकर
रोटी को तरसाने वालों-
आना फिर से वोट मांगने
पाँच साल सिसकाने वालों


अब भी जुमले फेंक रहे हो
रोजगार की वाट लगाकर
अच्छे-खासे पढ़े-लिखे अब
बेच रहे हैं चाट बनाकर
ठेलों तक पहुँचाने वालों-
आना फिर से वोट मांगने
पाँच साल सिसकाने वालों


चोर-लुटेरे भाग गए सब
चौकीदारी खूब निभाई
जनता की जेबों को देखो
काट रहें हैं तेरे चाई
सबकी नींद चुराने वालों-
आना फिर से वोट मांगने
पाँच साल सिसकाने वालों


तुमने ऐसी नीति बनाई
आसमान छूती महँगाई
उसको भूखे मार रहे हो
जिसको तुम कहते थे भाई
भाई को भरमाने वालों-
आना फिर से वोट मांगने
पाँच साल सिसकाने वालों


वक्त बुरा आया है लेकिन
तुम तो चाँदी काट रहे हो
जाति-धर्म की आग लगाकर
इंसानों को बाँट रहे हो
कटुता तुम फैलाने वालों-
आना फिर से वोट मांगने
पाँच साल सिसकाने वालों
----------------------------------
प्रस्तुति: डाटला एक्सप्रेस 25/1/19


Comments
Popular posts
मुख्य अभियंता मुकेश मित्तल एक्शन मे, भ्रष्‍ट लाइन मैन उदय प्रकाश को हटाने एवं अवर अभियंता के खिलाफ विभागीय कार्यवाही के दिये आदेश
Image
साहित्य के हिमालय से प्रवाहित दुग्ध धवल नदी-सी हैं, डॉ प्रभा पंत।
Image
दादर (अलवर) की बच्ची किरण कौर की पेंटिंग जापान की सबसे उत्कृष्ट पत्रिका "हिंदी की गूंज" का कवर पृष्ठ बनी।
Image
भक्त कवि श्रद्धेय रमेश उपाध्याय बाँसुरी की स्मृति में शानदार कवि सम्मेलन का किया गया आयोजन।
Image
प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की छत्रछाया में अवैध फैक्ट्रियों के गढ़ गगन विहार कॉलोनी में हरेराम नामक व्यक्ति द्वारा पीतल ढलाई की अवैध फैक्ट्री का संचालन धड़ल्ले से।
Image