प्रस्तुत है आकाश महेशपुरी द्वारा लिखी गई उनकी प्रचलित रचना ''पाँच साल सिसकाने वालों''


 


"पाँच साल सिसकाने वालों"
रचनाकार: आकाश महेशपुरी
---------------------------------------


जनता को तड़पाने वालों
आना फिर से वोट मांगने
पाँच साल सिसकाने वालों


फेंक रहे थे इतना ज्यादा
कहाँ गया वह तेरा वादा
अच्छे दिन का स्वप्न दिखाकर
वोट सभी लोगों का पाकर
रोटी को तरसाने वालों-
आना फिर से वोट मांगने
पाँच साल सिसकाने वालों


अब भी जुमले फेंक रहे हो
रोजगार की वाट लगाकर
अच्छे-खासे पढ़े-लिखे अब
बेच रहे हैं चाट बनाकर
ठेलों तक पहुँचाने वालों-
आना फिर से वोट मांगने
पाँच साल सिसकाने वालों


चोर-लुटेरे भाग गए सब
चौकीदारी खूब निभाई
जनता की जेबों को देखो
काट रहें हैं तेरे चाई
सबकी नींद चुराने वालों-
आना फिर से वोट मांगने
पाँच साल सिसकाने वालों


तुमने ऐसी नीति बनाई
आसमान छूती महँगाई
उसको भूखे मार रहे हो
जिसको तुम कहते थे भाई
भाई को भरमाने वालों-
आना फिर से वोट मांगने
पाँच साल सिसकाने वालों


वक्त बुरा आया है लेकिन
तुम तो चाँदी काट रहे हो
जाति-धर्म की आग लगाकर
इंसानों को बाँट रहे हो
कटुता तुम फैलाने वालों-
आना फिर से वोट मांगने
पाँच साल सिसकाने वालों
----------------------------------
प्रस्तुति: डाटला एक्सप्रेस 25/1/19


Comments
Popular posts
पर्पल पेन समूह द्वारा 'अनहद' काव्य गोष्ठी एवं पुस्तक लोकार्पण का भव्य आयोजन
Image
भ्रष्‍ट लाइनमैन उदय प्रकाश को एक बार फिर बचाने मे कामयाब दिख रहे हैं जांच अधिकारी।
Image
चन्द्र फ़िल्म प्रोडक्शन की दूसरी फ़िल्म बावळती के पोस्टर का विमोचन तोदी गार्डन में अध्यक्ष पवन महेश्वरी भजपा, सुल्तान सिंह राठौड़, पवन तोदी ने किया।
Image
काशी भूमि सेवा संस्था के कार्यकारी निदेशक श्री भूपेंद्र राय ने रोशन कुमार राय द्वारा लिये गये साक्षात्कार मे कहा-समाज सेवा और जनहित ही है मेरा पहला लक्ष्य
Image
पिलखुवा में राष्ट्रीय ग़जलकार सम्मेलन सम्पन्न
Image